डीएम के अपहरण पर उड़ीसा विधानसभा में हंगामा

विनील कृष्ण इमेज कॉपीरइट Sibabrata Das
Image caption जिलाधिकारी विनील कृष्ण की तलाश में अभियान छेड़ा गया है

उड़ीसा के मलकानगिरि ज़िले के जिलाधिकारी आर विनील कृष्ण को अगवा किए जाने को लेकर विपक्ष ने विधानसभा में हंगामा किया है.

अधिकारियों का कहना है कि उनका बुधवार को माओवादियों ने अपहरण कर लिया था.

इसके पहले उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा कि जिलाधिकारी को तलाश करने के पूरे प्रयास किए जा रहे हैं. लेकिन विपक्ष उनके आश्वासन से संतुष्ट नहीं हुआ.

इधर बीबीसी से बातचीत में माओवादियों के क़रीबी माने जाने वाले नेता गदर ने जिलाधिकारी विनील कृष्ण को रिहा करने की अपील की है.

अधिकारियों ने बताया कि विनील कृष्ण और एक अन्य सरकारी अधिकारी को गुरुवार कि शाम उस समय अगवा कर लिया गया जब वे चित्रकोंडा के दुर्गम इलाक़े के एक गाँव में जनसंपर्क शिविर के बाद वापस लौट रहे थे.

राज्य में किसी जिला मजिस्ट्रेट को अगवा किया जाने कि ये पहली घटना है.

प्रशासन दंग

इस घटना से राज्य प्रशासन दंग रह गया है.

ख़बरों के मुताबिक माओवादियों ने कृष्ण कि रिहाई के लिए दो मांगें रखी है- मलकानगिरी में केंद्रीय बलों के माओवादी विरोधी अभियान को तत्काल बंद किया जाए और जेल में बंद माओवादियों को रिहा किया जाए.

विनील कृष्ण के साथ गए एक अधिकारी के हाथ एक चिट्ठी देकर माओवादियों ने ये मांगें रखी हैं.

उड़ीसा गृह सचिव यूएन बहेरा ने कहा कि विनील कृष्ण को रिहा करने की सभी कोशिशें की जा रही हैं. उनकी तलाश में सुरक्षाबलों को भेजा गया है.

ग़ौरतलब है कि गृह मंत्री पी चिदंबरम देश के 60 माओवादी प्रभावित ज़िलों के जिलाधिकारियों के साथ दो दिन बाद वीडियो कॉन्फ्रेंस करने वाले हैं.

मलकानगिरी को माओवादी विद्रोहियों का गढ़ माना जाता है.

इस इलाके में पहले भी माओवादियों ने सुरक्षाकर्मियों को निशाना बनाया है.

संबंधित समाचार