खत्म हो रही समयसीमा, बंधकों को लेकर चिंता

Image caption बंधकों को छोड़ने के लिए लुटेरों ने 40 साख डॉलर की मांग की है.

सोमाली समुद्री लुटेरों ने जिन भारतीय नाविकों को अग़वा किया है उन्हें छुड़ाने की समय-सीमा आज खत्म हो रही है. इस बीच परिजन हताश हैं और भारत सरकार पर कार्रवाई का दबाव बढ़ रहा है.

समुद्री लुटेरों ने अगस्त 2010 में मिस्र के मालवाहक जहाज़ ‘एमवी सूएज़’ का अपहरण कर लिया था.

इस जहाज़ पर छह भारतीयों के अलावा चार पाकिस्तानी, छह भारतीय, चार श्रीलंकाई और मिस्र के 11 लोग भी सवार हैं. इन लोगों को छोड़ने के लिए अपहरणकर्ताओं ने 40 लाख डॉलर की मांग की है.

लोकसभा में हंगामा

मंगलवार को लोकसभा में इस मुद्दे पर हंगामा हुआ. विपक्ष ने सरकार से इस मामले में तुरंत दख़ल देने की मांग करते हुए सदन से वॉकआउट कर दिया.

सदन में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने कहा, ‘’बंधक बनाए गए लोगों के परिजन एक मंत्रालय से दूसरे मंत्रालय में भटक रहे हैं. अमरीका अपने एक भी नागरिक को छुड़ाने के लिए पूरी ताकत लगा देता है लेकिन हम इस मामले में गंभीर नहीं और बेबस दिख रहे हैं.‘’

इस पर भारतीय नाविकों की रिहाई को लेकर सरकार की ओर से सफ़ाई देते हुए विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने सदन में कहा, ‘’हम लगातार इस जहाज़ के मालिकों से संपर्क में हैं. वो इन लुटेरों से बात कर रहे हैं. हमें उम्मीद है कि हम भारतीयों को छुड़ाने में कामयाब रहेंगे.‘’

विदेश मंत्री ने कहा कि उन्होंने मिस्र के राजदूत से भी इस मसले पर बातचीत की है और बंधक बनाए गए लोगों के परिजनों से भी मुलाकात की है.‘’

संबंधित समाचार