लक्ष्मी मित्तल के वेतन में बढ़ोतरी

लक्ष्मी मित्तल

इस्पात की घटती मांग के कारण कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों के वेतन में लगातार दो साल तक कटौती करनी पड़ी थी.

इस्पात बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी आर्सेलर मित्तल के चेयरमैन लक्ष्मी मित्तल के वेतन में दो साल के बाद बढ़ोतरी हुई है.

पिछले दो सालों से वेतन में कटौती की मार झेल रहे मित्तल के वेतन में साल 2010 में 11 प्रतिशत की वृद्धि हुई.

कंपनी की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक़ 2010 में लक्ष्मी मित्तल का मूल वेतन 16 लाख 50 हज़ार डॉलर था जबकि उसके पिछले साल उनका मूल वेतन 14 लाख 90 हज़ार डॉलर था.

मांग में कमी

पिछले दो सालों में कंपनी ने चेयरमैन मित्तल सभी बड़े अधिकारियों के वेतन में कटौती की थी क्योंकि इस्पात की बिक्री में कमी के कारण कंपनी को काफ़ी नुक़सान हुआ था.

दुनिया भर में स्टील की घटती मांग के कारण पिछले कुछ सालों से कंपनी को घाटा हो रहा था और इसी दबाव के कारण कंपनी प्रबंधन ने निदेशकों के वेतन में साल 2008 में 15 प्रतिशत की कटौती की घोषणा की थी जबकि साल 2009 में उनके वेतन में 12 प्रतिशत की कटौती की गई थी.

दो साल के बाद वेतन में इज़ाफ़ा

लक्ष्मी मित्तल की बेटी वनीशा मित्तल का मूल वेतन 2010 में बढ़कर एक लाख 72 हज़ार डॉलर हो गया जबकि उसके पिछले साल वनीशा का मूल वेतन एक लाख 64 हज़ार डॉलर था.

कंपनी के निदेशक मंडल में लक्ष्मी मित्त्ल के दूसरे सहयोगी नारायण वाघुल, विल्बर रॉस,लुइस काडेन, वग़ैरह के वेतन में भी बढ़ोतरी हुई है.

कंपनी के अनुसार साल 2010 में कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों के वेतन और भत्तों में कुल मिलाकर एक करोड़ 78 लाख डॉलर अदा किए गए हैं.

वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार कंपनी ने कुछ अधिकारियों के बेहतर प्रदर्शन और 2009 के नतीजों के आधार पर बोनस की अदाएगी के लिए 72 लाख डॉलर ख़र्च किए जबकि 31 दिसंबर 2010 तक रिटायर होने वाले वरिष्ठ अधिकारियों के पेंशन में कंपनी ने 18 लाख डॉलर ख़र्च किए हैं.

दुनिया भर में इस्पात की घटती मांग के कारण पिछले कुछ सालों से कंपनी को घाटा हो रहा था और इसी दबाव के कारण कंपनी प्रबंधन ने निदेशकों के वेतन में साल 2008 में 15 प्रतिशत की कटौती की घोषणा की थी जबकि साल 2009 में उनके वेतन में 12 प्रतिशत की कटौती की गई थी.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.