'भारतीय कूटनयिकों की रक्षा की जाए'

इमेज कॉपीरइट Reuters

नेपाल दौरे पर गए भारत के विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने नेपाल में माओवादियों द्वारा भारत विरोधी गतिविधियों का मुद्दा उठाया है और कहा कि भारत के नागरिकों और कूटनयिकों की रक्षा की जाए.

शुक्रवार को वे बीरगंज जाएँगे जहाँ वे एकीकृत चेक पोस्ट की आधारशीला रखेंगे.

बुधवार को शुरु हुए तीन दिवसीय दौरे के तहत कृष्णा ने नेपाल के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से मुलाक़ात की है. गुरुवार को हुई बातचीत के दौरान भारतीय विदेश मंत्री ने नेपाल में भारत के राजदूत पर हुए हमले पर चिंता जताई. उन्होंने कहा कि नेपाल के उप प्रधानमंत्री ने आश्वासन दिया है कि भारतीय कूटनयिकों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाएगी.

इसके अलावा कई भारतीय कंपनियों ने भी शिकायत की है कि उनके कर्मचारियों को नेपाल में परेशान किया जा रहा है. विदेश मंत्री ने कहा है कि नेपाल सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लेने की बात कही है.

तस्करी का मामला

नेपाल का कहना है कि वो अपनी धरती का इस्तेमाल भारत विरोधी गतिविधियों के लिए नहीं होने देगा.

मुलाक़ात में नेपाल के रास्ते भारत में फर्ज़ी नोटों की तस्करी, संशोधित प्रत्यर्पण संधि और क़ानूनी सहायता संधि के जल्द लागू होने का मुद्दा भी उठा.

भारतीय विदेश मंत्री के दौरे के दौरान नेपाल के आंतरिक मामलों पर भी चर्चा हुई है. नेपाली नेताओं ने एसएम कृष्णा को नए संविधान का मसौदा तैयार करने में हुई प्रगति के बारे में बताया.

शुक्रवार को विदेश मंत्री का बीरगंज जाने का कार्यक्रम है. वे 86.9 करोड़ रुपए की भारतीय मदद से बनने वाली एकीकृत चेक पोस्ट की आधारशीला रखेंगे.

इसके अलावा एसएम कृष्णा एक सड़क परियोजना की भी आधारशीला रखेंगे जो तराई सड़क परियोजना का पहला चरण है. इसे भारतीय मदद से बनाया जा रहा है.

संबंधित समाचार