बुधवार को दफ़नाए जाएंगे साईंबाबा

सचिन तेंदुलकर इमेज कॉपीरइट AP

चर्चित आध्यात्मिक गुरु सत्य साईंबाबा के पार्थिव शरीर को बुधवार को पुट्टपर्ति में उनके प्रशांति निलयम आश्रम में ही दफ़नाया जाएगा.

आंध्र प्रदेश के राजस्व मंत्री रघुवीरा रेड्डी ने कहा कि उनकी समाधि उसी कुलवंत हॉल में बनाई जाएगी जहाँ साईंबाबा रोज़ाना अपने भक्तों को दर्शन दिया करते थे.

छियासी वर्षीय बाबा का पार्थिव शरीर कल शाम से कुलवंत हॉल में ही रखा हुआ है और उन के हजारों भक्त कतार बांधे उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं.

दूरदराज़ इलाकों से आए इन भक्तों में पुरुष महिलाएं, बूढ़े और जवान सभी शामिल हैं. साईं के भक्त लगभग आठ घंटे तक लाइन में खड़े रहकर अपनी बारी का इंतेज़ार कर रहे हैं.

आम लोगों के साथ-साथ कई महत्वपूर्ण लोगों का पुट्टपर्ति आने का सिलसिला जारी है. आज पहुंचने वालों में क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर और उनकी पत्नी भी शामिल थीं.

सचिन काफ़ी देर तक वहां बैठे रहे. एक अवसर पर वह इतने भावुक हो गए कि उनकी आँखें भीग गईं. सचिन बाबा के भक्त थे और गत वर्ष उन्होंने विश्वकप से पहले ही साईंबाबा से भेंट की थी और उनका आशीर्वाद लिया था.

तिरुपति में सन्नाटा

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी मंगलवार को साईंबाबा को श्रद्धांजलि अर्पित करने पुट्टपर्ति पहुंचेंगे. भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी और गुजरात के मुख्य मंत्री नरेंद्र मोदी के सोमवार शाम तक पहुंचने की संभावना है.

पुट्टपर्ति पहुंचने वाले विदेशी महमानों में श्रीलंका के राष्ट्रपति राजपक्षे शामिल होंगे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इस बीच पुट्टपर्ति में भक्तों की बाढ़ आ गई है. लोग बसों, रेल, कार और हर उपलब्ध तरीके से पुट्टपर्ति पहुंच रहे हैं.

सभी गाड़ियों को पुट्टपर्ति से दूर रोक लिया जा रहा है और लोग कई किलोमीटर तक पैदल चल कर वहां पहुंच रहे हैं.

अधिकारीयों का अंदाज़ा है कि मंगलवार की शाम तक लगभग पांच लाख लोग बाबा के अंतिम दर्शन कर सकेंगे.

हैदराबाद, विजयवाड़ा, तिरुपति, बंगलौर और कई दूसरे स्थानों से विशेष बस सेवाएं चलाई जा रही हैं. साथ ही छह विशेष ट्रेनें अलग-अलग स्थानों से भक्तों को ला रही हैं.

भक्तों की ज़बरदस्त भीड़ को देखते हुए पुलिस ने कड़े सुरक्षा प्रबंध किए हैं ताकि कोई भगदड़ और गड़बड़ ना हो और लोगों को कष्ट न पहुंचे.

तिरुपति में सन्नाटा छाया हुआ है, दुकानें बंद हैं और हर कोई शोक में डूबा हुआ है.

रघुवीरा रेड्डी ने कहा की मंगलवार की शाम दर्शन बंद कर दिए जाएंगे और उसके बाद बाबा के अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी जाएगी.

संबंधित समाचार