केंद्र से समर्थन वापस नहीं: द्रमुक

एम करुणानिधि इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption करुणानिधि ने कनिमोड़ी मामले पर क़ानूनी लड़ाई लड़ने की बात कही

तमिलनाडु में सत्ताधारी द्रविड़ मुनेत्र कणगम (द्रमुक) ने 2-जी स्पैक्ट्रम मुद्दे पर पार्टी सांसद कनिमोड़ी का समर्थन करते हुए कहा है कि पार्टी इस मामले में क़ानूनी लड़ाई लड़ेगी.

चेन्नई में पार्टी की उच्चस्तरीय बैठक में द्रमुक ने केंद्र की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) से समर्थन वापस न लेने का फ़ैसला किया है.

इस बैठक की अध्यक्षता तमिलनाडु के मुख्यमंत्री और द्रमुक के प्रमुख एम करुणानिधि ने की.

इस बैठक में यह भी फ़ैसला किया गया कि पार्टी की राज्यसभा सांसद कनिमोड़ी के मामले पर क़ानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी.

सीबीआई ने सोमवार को 2-जी घोटाला मामले में दूसरी चार्जशीट दाखिल की थी, जिसमें कनिमोड़ी का भी नाम है.

कार्रवाई

कनिमोड़ी पार्टी प्रमुख करुणानिधि की बेटी हैं. अपनी बेटी का नाम चार्जशीट में आने पर दुख जताते हुए करुणानिधि ने कहा, "हम सच साबित करने के लिए क़ानूनी कार्रवाई करेंगे."

जब से सीबीआई ने कनिमोड़ी के ख़िलाफ़ चार्जशीट दाखिल की है, तब से ही ये अटकलें लगाई जा रही थी कि क्या द्रमुक इस मुद्दे पर केंद्र सरकार से समर्थन वापस ले लेगा?

ये पूछे जाने पर कि क्या छह मई को कनिमोड़ी सीबीआई के सामने पेश होंगी, करुणानिधि ने कहा, "वो जयललिता नहीं हैं कि वे अदालत के समन की अनदेखी करें."

अग्रिम ज़मानत की अर्ज़ी के बारे में पूछे जाने पर करुणानिधि ने कहा कि ये फ़ैसला वकील करेंगे. 2-जी मामले में पूर्व दूरसंचार मंत्री और द्रमुक नेता ए राजा इस समय जेल में हैं.

संबंधित समाचार