शाइनी आहूजा को ज़मानत मिली

शाइनी आहूजा
Image caption शाइनी को हाईकोर्ट से राहत मिली.

बॉम्बे हाई कोर्ट ने फ़िल्म अभिनेता शाइनी आहूजा को जमानत दे दी है.

मुंबई की निचली अदालत ने पिछले महीने शाइनी आहूजा को अपनी घरेलू नौकरानी से बलात्कार करने का दोषी क़रार दिया था. इसके लगभग एक महीने बाद बुधवार को बॉम्बे हाई कोर्ट ने उन्हें ज़मानत दे दी.

न्यायमूर्ति एआर जोशी ने शाइनी को ज़मानत देते हुए उन्हें 50 हज़ार रुपए की ज़मानत राशि जमा करने को कहा.

न्यायाधीश ने कहा कि फ़िलहाल उनकी हिरासत की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि उन्हें पहले ही दोषी क़रार दिया जा चुका है. अदालत ने ये भी कहा कि शाइनी आहूजा को देश से बाहर जाने के लिए अदालत से इजाज़त लेना ज़रूरी है इसके बग़ैर वो देश छोड़कर नहीं जा सकते.

दोषी क़रार

इसी साल 30 मार्च को मुंबई की एक सत्र अदालत में बलात्कार का दोषी क़रार दिए जाने के बाद शाइनी आहूजा ने बॉम्बे हाईकोर्ट में अपील दायर की थी.

शाइनी के वकील शिरीष गुप्ते ने अपने मुवक्किल के लिए ज़मानत की मांग करते हुए निचली अदालत के फ़ैसले को भी चुनौती दी.

उनके अनुसार शाइनी के ख़िलाफ़ बलात्कार के पूरे सबूत नहीं होने के बावजूद उन्हें दोषी क़रार दिया गया.

कथित तौर पर बलात्कार पीड़ित नौकरानी ने निचली अदालत में अपना बयान बदलते हुए कहा था कि उसके साथ बलात्कार नहीं किया गया और उसने रेखा माणे नामक एक महिला के कहने पर पुलिस के सामने झूठा बयान दिया था, जिसकी शाइनी के साथ कथित तौर पर दुश्मनी थी.

निचली अदालत ने परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर शाइनी को सात साल के सश्रम कारावास की सज़ा सुनाई थी.

नौकरानी ने जून, 2009 में पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराते हुए आरोप लगाया था कि शाइनी ने अपने घर पर उसका यौन शोषण किया. शाइनी को इसके बाद 14 जून को गिरफ़्तार कर लिया गया था.

संबंधित समाचार