जयललिता ने किया डीएमके का सफ़ाया

जयललिता समर्थक इमेज कॉपीरइट BBC World Service

तमिलनाडु में जयललिता की पार्टी एआईएडीएमके के नेतृत्व वाले गठबंधन ने सत्तारूढ़ डीएमके गठबंधन का सफ़ाया कर दिया है.

विधानसभा चुनाव के अब तक मिले नतीजों और रुझानों के अनुसार एआईएडीएमके गठबंधन को 198 सीटें मिलती दिख रही हैं जबकि डीएमके गठबंधन को सिर्फ़ 36 सीटें मिल रही हैं.

लेकिन अंतिम परिणाम आने से पहले ही मुख्यमंत्री एम करुणानिधि ने इस्तीफ़ा दे दिया है.

राज्यपाल सुरजीत सिंह बरनाला ने इस्तीफ़ा स्वीकार कर लिया है.

डीएमके गठबंधन की अहम सदस्य कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा है कि इन नतीजों का गठबंधन पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

लेकिन विश्लेषक मान रहे हैं कि परिवारवाद और भ्रष्टाचार के जिन आरोपों की वजह से राज्य में इतनी बड़ी हार हुई है उसके बाद डीएमके के साथ कांग्रेस का गठबंधन बहुत टिकाऊ नहीं दिखता.

मुद्दा

चुनाव के दौरान विश्लेषकों का अनुमान था कि डीएमके और एआईडीएमके के बीच कांटे का मुक़ाबला होगा.

कुछ ही विश्लेषकों ने कहा था कि जयललिता जीतने वाली हैं और जब जीत के आंकड़े आए तो उन्होंने स्वीकार किया कि जयललिता का प्रदर्शन उम्मीद से कहीं ज़्यादा अच्छा है.

चुनाव के दौरान माना जा रहा था कि 2 जी स्पेक्ट्रम मामले में केंद्रीय मंत्री ए राजा के जेल जाने और करुणानिधि की बेटी कनिमोड़ी का नाम सीबीआई के आरोप पत्र में आने की वजह से यह एक बड़ा मुद्दा बनेगा.

इन चुनावों को क़रीब से देखने वाले पत्रकारों का कहना है कि शहरी इलाक़ों में तो इस मुद्दे का ज़िक्र हुआ भी लेकिन ग्रामीण इलाक़ों में ये बड़ा मुद्दा नहीं बना सका. ख़ुद जयललिता ने इस मुद्दे का ज़िक्र बहुत अधिक नहीं किया.

वे बताते हैं कि जयललिता ने 2 स्पेक्ट्रम तक सीमित रहने की बजाय करुणानिधि सरकार और उनके परिवार के भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाया और इसका व्यापक रुप से ज़िक्र किया.

उन्होंने मुद्दा उठाया कि करुणानिधि परिवार के 45 सदस्य किस तरह से राज्य को संचालित कर रहे हैं.

अब जयललिता कहती हैं कि उन्हें पिछले तीन वर्षों से जनता के बीच जाकर ये अहसास हो रहा था कि लोग करुणानिधि की सरकार से उकता चुके हैं और वे इस सरकार को हटाने के लिए सिर्फ़ अवसर की तलाश में हैं.

उन्होंने कहा, "इन चुनावों ने एक अवसर दिया और जनता ने एआईडीएमके को चुन लिया."

उन्होंने कहा कि ये चुनाव राज्य की जनता की जीत है.

संबंधित समाचार