झारखण्ड: नक्सली हमले में दूल्हे सहित पांच मरे

Image caption यह दूसरा मौका है जब माओवादियों ने शादी में शामिल लोगों पर हमला किया है.

झारखण्ड में दो अलग-अलग स्थानों पर हुए नक्सली हमले में पांच लोगों के मारे जाने की खबर है जबकि दो पुलिसवाले घायल बताए जाते हैं. इसके अलावा

माओवादियों की ओर से 29 गाड़ियों में आग लगाए जाने की भी खबर है.

पहली घटना गुमला ज़िले के लोकमि गाँव की है जहाँ हथियारबंद नक्सलियों के एक दस्ते ने एक विवाह समारोह में धावा बोल दिया.

पुलिस का कहना है कि नक्सली अपने से अलग हुए एक धड़े यानी के पीएलएफ़आई नामक संगठन के कुछ लोगों को ढूंढ रहे थे.

पुलिस का कहना है कि इस दौरान नक्सलियों ने दूल्हे और उसके पिता सहित पांच लोगों को समारोह से घसीटकर गोली मार दी.

दूल्हे का नाम गुरदेव ओरांव तथा पिता का नाम चेता ओरांव बताया जाता है.

किसी की ना सुनी

पुलिस का कहना है कि मारे गए लोगों में दो पंजाब से शादी में भाग लेने आए हुए थे.

लोकमि में शादी का माहौल मातम में तब्दील हो गया.

गुमला में मौजूद स्थानीय पत्रकारों का कहना है कि शादी समारोह में मौजूद लोग नक्सलियों के दस्ते से गुहार लगाते रहे. मगर हथियारबंद वर्दीधारी माओवादियों ने किसी की एक ना सुनी.

पुलिस का कहना है कि नकस्ली पीएलएफ़आई के कमांडर मंगल नगेसिया की तलाश कर रहे थे.

यह दूसरा मौका है जब माओवादियों ने शादी में शामिल लोगों पर हमला किया है.

वाहनों में आग लगा दी

इससे पहले 5 मई को महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ की सीमा पर गडचिरोली के पास माओवादियों ने बारातियों के ले जा रही एक जीप को विस्फोट से उड़ा दिया था.

मारे जाने वालों में महिलाएं और बच्चे थे जो छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव के रहने वाले थे.

वहीं झारखण्ड के हजारीबाग़ में माओवादियों ने एक निजी निर्माण कंपनी की 29 गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया.

इस दौरान माओवादियों की पुलिस के साथ मुठभेड़ होने की भी खबर है जिसमें दो पुलिसकर्मी घायल बताए जाते हैं.

पुलिस का कहना है कि कंपनी, सड़क निर्माण के काम में लगी हुई थी और माओवादी प्रबंधन से लेवी की मांग कर रहे थे.

मामला जब नहीं बना तो माओवादियों नें सड़क के निर्माण में लगे वाहनों में आग लगा दी.

संबंधित समाचार