'सिंगूर में ज़मीन लौटाई जाएगी'

ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि पूर्व सरकार ने सिंगूर में जिस 400 एकड़ ज़मीन का अधिग्रहण किया था वो किसानों को लौटा दी जाएगी.

साथ ही ममता बनर्जी ने ये भी कहा है कि अगर टाटा समूह बंगाल में निवेश करना चाहता है तो उसका स्वागत है.

शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की पहली महिला मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक भव्य शपथग्रहण समारोह में पद की शपथ ली.

शाम को कोलकता में एक संवाददाता सम्मलेन में ममता बनर्जी ने अपनी नई सरकार की प्राथमिकताओं का भी उल्लेख किया.

ममता बनर्जी ने कहा, "सिंगूर इलाके में किसानों की जिस 400 एकड़ ज़मीन का अधिग्रहण किया गया था उसे उन्हें लौटा दिया जाएगा."

सिंगूर में टाटा समूह की कार निर्माण करने वाली फै़क्टरी को लेकर राजनीति गर्म रही थी.

अगर टाटा समूह बंगाल में निवेश करना चाहता है तो उसका स्वागत है

ममता बनर्जी, मुख्यमंत्री,पश्चिम बंगाल

टाटा समूह ने महीनो चले विरोध और हिंसा की घटनाओं के बाद सिंगूर स्थित कारख़ाने को त्याग दिया था.

हालांकि ममता बनर्जी ने शुक्रवार को पदभार संभालने के बाद कहा कि अगर टाटा समूह बंगाल में निवेश करना चाहता है तो वे उसका स्वागत करेगीं.

प्राथमिकताएं

ममता बनर्जी ने कार्यभार संभालने के बाद कहा कि वे प्रदेश के पहाड़ी इलाकों जंगलमहल और दार्जिलिंग की समस्या का हल तीन महीने के भीतर निकालने का प्रयास करेंगी.

चुनावी नतीजो़ में सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी को मिली हार के बाद पश्चिम बंगाल में हिंसा भड़कने की चिंताएं उठी थीं.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस बात को साफ़ किया कि वे प्रदेश में शांति चाहती हैं.

उन्होंने कहा कि चुनावी नतीजों के मुद्दे पर कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए.

राजभवन

शपथग्रहण समारोह के समय राजभवन के बाहर हजारों लोग जमा थे

ममता बनर्जी ने हाल ही में अल्पसंख्यकों पर जारी की गयी जस्टिस सच्चर कमिटी की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल में अल्पसंख्यकों की दशा में सुधार लाने की ज़रुरत है.

पश्चिम बंगाल राज्य में आपदा प्रबंधन की बात पर जोर देते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि वे आपदाओं से निपटने के लिए केंद्र सरकार की मदद भी लेंगी.

उमड़ पड़े प्रशंसक

शपथग्रहण समारोह के बाद ममता बनर्जी ने राज भवन से राईटर्स बिल्डिंग स्थित प्रदेश सचिवालय तक की दो किलोमीटर की दूरी पैदल चल कर पूरी की.

सड़क के दोनों ओर ममता बनर्जी के समर्थकों का हुजूम जमा था और लोगबाग ममता की झलक पाने को बेताब थे.

ममता बनर्जी अपने समर्थकों-प्रशंसकों से हाथ मिलाते हुए भीड़ को चीर कर अपने नए दफ़्तर पहुंची और राज्य का कार्यभार संभाला.

इससे पहले कोलकता के राजभवन में ममता बनर्जी ने शपथग्रहण समारोह में हिस्सा लिया.

शपथ समारोह में राज्य के निवर्तमान मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य भी शामिल हुए.

उनके अलावा सीपीएम के पश्चिम बंगाल के सचिव बिमान बोस भी समारोह में मौजूद रहे.

जबकि केंद्रीय गृहमंत्री पी चिंदबरम ने भी समारोह में शिरकत की.

ममता बनर्जी के अलावा तृणमूल कांग्रेस के 36 सदस्यों और कांग्रेस पार्टी के सात सदस्यों को मंत्रिमंडल की शपथ दिलाई गई.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.