हाथियों का उत्पात, एक की मौत

मैसूर में हाथी का उत्पाद इमेज कॉपीरइट

भारत के मैसूर शहर में हाथियों के उत्पात के दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गई है.

अधिकारियों के अनुसार दोनों हाथी जंगल से भटक कर आबादी वाले इलाक़े में आ गए थे.

हाथी जिस-जिस इलाक़े में गए वहाँ भगदड़ मच गई. लोग जान बचाने के लिए भागने लगे.

एक हाथी एक महिला कॉलेज के परिसर में जा घुसा जबकि दूसरे ने एक रिहायशी इलाक़े में आतंक मचाया.

अधिकारियों का कहना है कि बंबू बाज़ार इलाक़े में हाथी से कुचल कर एक 55 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई.

बाद में मैसूर चिड़ियाघर के रेंजरों की सहायता से हाथियों को क़ाबू में किया जा सका.

अतिक्रमण

इससे पहले ऐहतियात के तौर पर मैसूर में स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए. शहर में अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी भी तैनात करने पड़े.

कम उम्र के दोनों हाथी मैसूर से 35 किलोमीटर दूर स्थित जंगलों से आए थे. अधिकारियों को आशंका है कि दो और हाथी इन जंगलों से बाहर निकले हैं.

कर्नाटक के उच्च शिक्षा मंत्री एसए रामदास ने बुधवार की घटना के लिए पूरा दोष जंगलों के मानव अतिक्रमण को दिया है.

उन्होंने कहा, “कृषि भूमि के अनियंत्रित विस्तार और हाथियों के लिए सुरक्षित घोषित इलाक़े से होकर मानव आवागमन में बेहिसाब वृद्धि ने हाथियों को बाहर निकलने के लिए विवश कर दिया है.”

संबंधित समाचार