'गोरखालैंड पर समझौता अंतिम नहीं'

ममता बैनर्जी इमेज कॉपीरइट AP
Image caption ममता बैनर्जी ने पिछले दिनों घोषणा की थी कि समस्या हल हो गई है

पश्चिम बंगाल सरकार से समझौता करने पर दार्जिलिंग में विरोध का सामना कर रहे गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने कहा है कि समझौते में नए स्वायित्व काउंसिल के गठन की जो बात कही गई है वो दर असल एक अलग राज्य या केंद्र शासित राज्य बनाने की दिशा में उठाया गया क़दम है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार मंगलवार को दार्जिलिंग के जिमख़ाना क्लब में दार्जिलिंग, कलिमपोंग और कुर्सियोंग के नेताओं की बैठक हुई थी.

बैठक के एक दिन बाद बुधवार को गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष बिमल गुरूंग ने एक बयान जारी कर कहा कि राज्य सरकार से किया गया समझौता अंतिम नहीं है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार बिमल गुरूंग ने कहा, ''इस बारे में अंतिम फ़ैसला पहाड़ के लोगों की इच्छाओं के अनुसार ही लिया जाएगा, और ज़्यादातर लोग एक अलग राज्य चाहते हैं.''

बयान में ये भी कहा गया है कि मोर्चा नए काउंसिल के गठन के लिए कोई संवैधानिक ज़मानत नहीं चाहता है क्योंकि इससे इस समझौते को अंतिम स्वरूप दे दिया जाएगा.

मोर्चा के सूत्र बताते हैं कि जिमख़ाना क्लब की बैठक गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के दो गुटों के बीच टकराव होने के बाद की गई थी.

'विरोध'

इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption दार्जिलिंग के कई गुट अपने लिए अलग राज्य की मांग कर रहे हैं

कोलकाता में राज्य सरकार से समझौते पर हस्ताक्षर करने के दो दिन बाद कलिमपॉंग में मोर्चा के दो गुटों में झड़प हो गई थी क्योंकि समझौते में अलग राज्य की पूरानी मांग को कथित तौर पर कमज़ोर कर दिया गया है.

सूत्रों के अनुसार समझौते के बाद से ही तीनों उपमंडल में निचले स्तर के नेताओं में काफ़ी रोष है.

जिमख़ाना कलब की बैठक में मोर्चा के महासचिव रौशन गिरि, प्रमुख नेता हरकाबहादुर क्षेत्री, दार्जिलिंग के विधायक त्रिलोक दिवान के अलावा दूसरे कई नेता शामिल थे.

उस इलाक़े में सक्रिय दूसरे संगठन जैसे ऑल इंडिया गोरखा लिग और सीपीआरएम ने धमकी दी है कि अगर नई काउंसिल का गठन हुआ तो वो आंदोलन शुरू करेंगे क्योंकि इससे पहाड़ के लोगों की अलग राज्य की पुरानी मांग कमज़ोर पड़ती है.

गोरखा लीग के नेता लक्ष्मण प्रधान ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि पार्टी चाहती है कि उनके पूर्व पार्टी प्रमुख मदन तमांग की हत्या की सीबीआई जांच जल्द पूरी की जाए. मदन तमांग की हत्या के पीछे कथित तौर पर गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ता शामिल थे.

लक्ष्मण प्रधान ने कहा कि उनकी पार्टी चाहती है कि मोर्चा के जिन नेताओं के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज है मदन तमांग की हत्या में उनकी भूमिका की जांच की जाए.

संबंधित समाचार