'आईएमएफ़ प्रमुख पर फैसला अभी नहीं'

प्रणव
Image caption भारत ने आईएमएफ़ प्रमुख के चुनाव को लेकर अपना रूख़ साफ़ नहीं किया है.

वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी ने कहा है कि भारत ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के नए प्रमुख के चुनाव को लेकर कोई फैसला नहीं किया है.

प्रणव मुखर्जी ने कहा कि सरकार इस मामले में दूसरे सदस्य देशों से संपर्क में है और भारत इस संदर्भ में अपने फैसले की घोषणा समय आने पर करेगा.

व्यापार समूह एसोचेम के एक कार्यक्रम में शामिल होने गए भारतीय वित्त मंत्री ने पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा, "आईएमएफ़ प्रमुख के चुनाव के लिए दो उम्मीदवार मैदान में हैं. मैं इस मामले में दूसरे सदस्य देशों के वित्त मंत्रियों के संपर्क में हूँ और वित्तीय संस्था में हमारे कार्यकारी निदेशक अपने समकक्षों से इस संदर्भ में बातचीत कर रहे हैं. हम अपने फ़ैसले की घोषणा समय आने पर करेंगे."

आईएमएफ़ के प्रबंध निदेशक डोमिनिक स्ट्रास कान बलात्कार के प्रयास के आरोप में गिरफ़्तार किए गए थे और उन्होंने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया था. अब इस पद के लिए चुनाव हो रहा है. चुनाव के दोनों मुख्य दावेदारों ने अपने पक्ष में मत जुटाने के लिए हाल में ही भारत का दौरा किया था.

अपने दौरे पर भारत आईं क्रिसटिन लगार्ड ने दिल्ली में वित्त मंत्री समेत अन्य भारतीय राजनितिज्ञों और अधिकारियों से मुलाक़ात की थी.

माना जा रहा है कि फ्रांस की वित्त मंत्री क्रिसटिन लगार्ड को सभी अहम यूरोपीय देश और अमरीका का समर्थन प्राप्त है जबकि मैक्सिको के सेंट्रल बैंक के गवर्नर अगस्टिन कार्सटन का कहना है कि विकासशील देशों को चाहिए कि वो चुनाव में उनका समर्थन करें.

अगस्टिन कार्सटन ने कहा है कि देश के सेंट्रल बैंक को चलाने का तजुर्बा होने की बिना पर उनकी दावेदारी ज़्यादा प्रबल है.

विकासशील देश

विकासशील देशों, ख़ासतौर से ब्रिक्स समुह पिछले कुछ दिनों यह कहता आया है कि अब समय आ गया है कि आईएमएफ़ के प्रबंध निदेशक का कार्यभार उन्हें दिया जाए.

भारत, ब्राज़ील, रूस, चीन और दक्षिणी अफ़्रीका को मिलाकर बने गए ब्रिक्स समुह में भारत की अहम भूमिका रही है.

हालांकि दोनों उम्मीदवारों की दिल्ली यात्रा के दौरान भारत ने यह साफ़ नहीं किया कि वो अपना मत किसे देगा.

अभी तक आईएमएफ़ के प्रबंध निदेशक के पद पर ज़्यादातर यूरोपीय देशों के प्रतिनिधि ही चुने जाते रहे हैं जबकि विश्व बैंक पर अमरीका का क़ब्ज़ा रहा है.

आईएमएफ़ के निदेशक को चुने जाने का काम 30 जून से पहले कर दिया जाना है.

संबंधित समाचार