सोनिया ने दिया अन्ना के पत्र का जवाब

अन्ना हज़ारे इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अन्ना हज़ारे भी मसौदा समिति के सदस्य हैं.

कांग्रेस की ओर से अन्ना हज़ारे को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी का मुखौटा कहे जाने के विरोध में लिखे गए अन्ना के पत्र का आखिरकार सोनिया गांधी ने जवाब दे दिया है.

रविवार को लिखे गए पत्र के जवाब में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अन्ना की ओर से पत्र सार्वजनिक किए जाने पर अपनी नाखुशी ज़ाहिर की. साथ ही उन्होंने कहा कि वो किसी भी पक्ष की ओर से इस तरह की बयानबाज़ी के समर्थन में नहीं हैं और इस मामले में अपनी राय पहले ही ज़ाहिर कर चुकी हैं.

सोनिया गांधी ने कहा, ''मुझे आपका पत्र नौ जून 2011 को मिला, लेकिन चूंकि मैं दिल्ली में नहीं थी आपके पत्र का जवाब नहीं दे सकी. इस बीच आपने उस पत्र को सार्वजनिक कर दिया है और इस बारे में मैं और जानकारी इक्टठा कर रही हूं. जहां तक पत्र में उठाए गए सवालों की बात है तो मैं अपनी राय 19 अप्रैल के अपने पत्र में साफ़ कर चुकी हूं.''

अन्ना हज़ारे ने अपने पत्र में खुद को आरएसएस का मुखौटा कहे जाने पर आपत्ति के साथ यह भी कहा था कि अगर कांग्रेस ऐसा कहती है तो अपने आरोप सिद्ध करके दिखाए.

'प्रतिबद्धता पर शक न करें'

अन्ना हज़ारे ने कहा था कि इस तरह के आरोप उन्हें बदनाम करने की कांग्रेस की एक ‘साज़िश हैं’ और वो इन टिप्पणियों से आहत हैं.

इसके जवाब में सोनिया गांधी ने कहा है कि वो पहले ही अपने एक पत्र में कह चुकी हैं कि वो सोची-समझी रणनीति के तौर पर किसी की छवि पर कीचड़ उछालने के पक्ष में नहीं हैं.

सोनिया गांधी ने यह भी कहा कि लोकपाल बिल उनकी सरकार की प्राथमिकता है और उसके एजेंडे में पूरी तरह शामिल है.

उन्होंने कहा, ''फिलहाल सबसे बड़ी ज़रूरत है भ्रष्टाचार और घूसखोरी से लड़ना और इस मामले में आपको मेरी प्रतिबद्धता पर कोई शक नहीं होना चाहिए. मैं पूरी तरह से उस लोकपाल बिल के समर्थन में हूं जो लोकतांत्रिक व्यवस्था और संसदीय कार्यप्रणाली के आधार पर बनाया जाए.''

ग़ौरतलब है कि लोकपाल बिल को लेकर अन्ना हज़ारे और सरकार के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है.

अन्ना ने कहा है कि अगर उनकी मांगें नहीं मानीं गई तो वे फिर से अनशन करेंगे और कांग्रेस का कहना है कि क़ानून बनाने का काम संसद और विधानसभा का है और किसी एक व्यक्ति को इस पर अपने विचार नहीं थोपने चाहिए.

संबंधित समाचार