फ़िलहाल नहीं खुलेगा छठा तहखाना

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption मंदिर से मिले ख़ज़ाने की क़ीमत एक लाख करोड़ रुपयों तक आंकी जा चुकी है.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि केरल स्थित पद्मनाभस्वामी मंदिर के छठे और आख़िरी तहख़ाने को अभी नहीं खोला जाएगा.

इस मंदिर में अब तक खोले जा चुके पाँच तहख़ानों से क़ीमती पत्थर, सोने और चांदी का भंडार निकल चुका है. लेकिन एक तहख़ाना खोला जाना बाकी है.

अब तक मिले ख़ज़ाने की क़ीमत एक लाख करोड़ रुपयों तक आंकी जा चुकी है.

जस्टिस आर वी रवींद्रन और ए के पटनायक की बेंच ने याचिकाकर्ता राजा मारथंडा वर्मा और केरल सरकार को आदेश दिया है कि मंदिर के ख़ज़ाने की सुरक्षा के लिए वे पुख़्ता सुझाव ले कर अदालत आएं.

मंदिर के इन तहख़ानों को खोलकर इसमें रखे ख़ज़ाने का आकलन करने और एक सूची तैयार करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सेवानिवृत्त जज एनएम कृष्णन के नेतृत्व में सात सदस्यों का एक पैनल बनाया था.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि मंदिर में रखे गए ख़ज़ाने को निकाले जाने के काम का फ़िल्मांकन किया जाए और तस्वीरें खीचीं जाए.

अब इस मामले में अगली सुनवाई गुरूवार को होगी.

किसका ख़ज़ाना?

सुनवाई के दौरान त्रवणकोर के राजाओं के वकील ने कोर्ट में इस बात पर ज़ोर दिया कि ये मंदिर एक सार्वजनिक संपत्ति है और शाही परिवार का कोई भी सदस्य इस पर अपना दावा नहीं करना चाहता.

उन्होंने कहा, “शाही परिवार इस ख़ज़ाने पर कोई दावा नहीं करना चाहता. ये एक सार्वजनिक मंदिर है. हम इस संपत्ति पर किसी भी तरह का दावा नहीं करना चाहते. इस मंदिर का किसी भी हिस्से से शाही परिवार का कोई संबंध नहीं है.”

शाही परिवार ने कोर्ट में याचिका दायर कर कहा है कि केरल सरकार इस मंदिर पर अपना क़ब्ज़ा न करे.

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर में रखे ख़ज़ाने की सुरक्षा पर ज़ोर दिया और दोनों पक्षों को आदेश दिया कि वे इस ख़ज़ाने की सुरक्षा सुनिश्चित करें.

इस मंदिर को सोलहवीं शताब्दी में त्रावणकोर के राजाओं ने बनवाया था. ऐसा माना जाता है कि त्रावणकोर के राजाओं ने तहख़ानों के अलावा इस मंदिर की मोटी दीवारों में भी भारी मात्रा में ख़ज़ाना छिपा कर रख दिया था.

ब्रिटेन से मिली आज़ादी के बाद से इस मंदिर की देखरेख एक ट्रस्ट करता है जिसका संचालन त्रावणकोर का राजपरिवार करता है.

आज़ादी के बाद त्रावणकोर राज्य का कोचीन में विलय हो गया था, जो बाद में केरल बना.

संबंधित समाचार