किसान महापंचायत की तैयारी पूरी, दोपहर में पहुँचेंगे राहुल

किसान पंचायत
Image caption किसान पंचायत में शामिल होने के लिए नुमाईश मैदान में जमा होते लोग.

कांग्रेस नेताओं का कहना है कि अलीगढ़ में शनिवार दोपहर को प्रस्तावित किसान महापंचायत में कम से कम एक लाख लोग हिस्सा लेंगे.

कांग्रेस महासचिव राहुल गाँधी जो अपनी चार दिनों की पदयात्रा समाप्त कर कल दिल्ली वापस आ गए थे, दोपहर के समय अलीगढ पहुँच रहे हैं जिसके बाद पंचायत का काम औपचारिक रूप से शुरू होगा.

राहलु गाँधी ने अपनी यात्रा दिल्ली से सटे गौतम बुद्धनगर से शुरू की थी जिसके बाद लगभग 60 किलोमीटर की पैदल यात्रा में उन्होंने रास्ते में पड़नेवाले बीसियों गावों का दौरा किया और ग्रामीणों और किसानों से सीधे बातचीत की.

'रोकने की कोशिश'

हालांकि कांग्रेस नेता यह कहने से नहीं चुक रहे कि मायावती सरकार पूरी कोशिश कर रही है कि पंचायत में कम से कम लोग पुहुँचे.

कुछ जगहों पर बहुजन समाज पार्टी के सुत्रों के हवाले से ख़बर दी गई है कि पार्टी सुप्रीमो मायावती ने पार्टी नेताओं को हिदायत दी है कि वो इस बात को सुनिश्चित करें कि राहुल गाँधी के कार्यक्रम में कम से कम पार्टी के मूल समर्थक न जाएं.

कांग्रेस पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह ने बीबीसी से कहा कि ये प्रदेश के किसानों के लिए एक मौक़ा होगा जब वो अपनी सभी दिक्कतों पर अपनी बात सीधे राहुल गाँधी से कह सकेंगे.

अखिलेश प्रताप सिंह का कहना था कि वर्तमान में किसानों के लिए ज़मीन अधिग्रहण ही एक मसला नहीं बल्कि वो दूसरी समस्याओं जैसे खाद-बिजली-पानी की कमी, अनाज के सही दाम नहीं मिल पाना से भी जूझ रहे हैं जिसकी कहीं कोई सुनवाई नहीं.

उन्होनें कहा कि किसान महापंचायत कांग्रेस पार्टी का कार्यक्रम नहीं हैं बल्कि किसानों की समस्याओं को बांटने, समझने और उसका निपटारा तलाश करने के लिए आयोजित एक बैठक है.

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रीता बहुगणा जोशी ने पहले कहा था कि मंच पर पार्टी का कोई झंडा नहीं लगाया जाएगा.

हालांकि बीएसपी और भारतीय जनता पार्टी ने राहुल गाँधी की पदयात्रा और अलीगढ़ के महापंचायत को राजनैतिक पैंतरेबाज़ी क़रार दिया है.

बीजेपी ने तो कांग्रेस से पूछा भी है कि वो अपना आंदोलन उत्तर प्रदेश में ही क्यों कर रहे हैं.

मंच

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption राहुल गाँधी लगातार उत्तर प्रदेश में किसानों के मसले उठाते रहे हैं.

कार्यक्रम स्थल नुमाईश मैदान में तीन मंच तैयार हैं जिसमें एक पर राहुल गाँधी समेत कांग्रेस के कुछ नेता मौजूद होंगे. जबकि दूसरे पर प्रदेश के नेताओं के अलावा दिल्ली से वहाँ पहुँच रहे मंत्री विरोजमान होंगे. तीसरा मंच किसान नेताओं के लिए होगा.

पंचायत के दौरान लोगों के बोलने के लिए पूरी व्यवस्था की गई है. राहुल गाँधी कार्यक्रम के अंत में कांग्रेस नेताओं के मुताबिक़ 'थोड़े समय के लिए समापन टिपण्णी' देंगे.

कांग्रेस महासचिव की यात्रा के मद्देनज़र शहर में और नुमाईश मैदान के आसपास सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं. एसपीजी उपकरणों और डॉग स्कवायड की मदद से पूरे स्थल का मुआइना कर रही है.

प्रशासन ने अतिरिक्त सुरक्षाबलों को काम पर लगाया है और कई इलाकों में ट्रैफिक व्यवस्था में तबदीली की गई है.

संबंधित समाचार