क्षत-विक्षत लाशें और ख़ून

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption धमाके ज़ोरदार थे

मुंबई में बुधवार शाम तीन अलग-अलग स्थानों पर लगभग एक साथ बम धमाके हुए. प्रत्यक्षदर्शियों ने समाचार एजेंसियों को बताया कि धमाके के बाद वहाँ क्या हाल था.

धमाके के समय ओपेरा हाउस के पास एक भवन में मौजूद हीरा व्यापारी आगम दोषी ने बताया, "हमने एक बड़ा धमाका सुना. इमारत हिल गई, खिड़कियाँ टूट गईं. शोर बहुत भयानक था. हम बाहर निकले तो चारों तरफ़ काला धुआँ था. सड़क पर लाशें बिखरी हुई थीं. ख़ूब सारा ख़ून बिखरा दिखा... हमने कई क्षत-विक्षत लाशें देखीं."

झावेरी बाज़ार में खाने-पीने के सामान की छोटी दुकान चलाने वाले निमेश मेहता वहाँ हुए धमाके के गवाह हैं. उन्होंने बताया, "बुरी तरह घायल लोगों की बड़ी संख्या थी. हमें नहीं पता कुल कितने लोगों की मौत हुई है लेकिन इतना तो कह ही सकता हूँ कि बहुत बड़ा धमाका था."

पास ही रवीन्द्र सिंह की स्पेअर पार्ट्स की दुकान है. उन्होंने कहा, "ये एक कायरतापूर्ण हमला था. हताहत होने वाले सभी निर्दोष लोग थे. चाहे ग़रीब हो या अमीर."

एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी विजय कुमार ने बताया, "जैसे ही हमने एक बड़ा धमाका सुना हम भागते हुए बाहर आए कि देखें क्या हुआ है. हमने देखा वहाँ दो लड़कियों के शव पड़े थे."

संबंधित समाचार