प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

किसकी गलती, कहां हुई भूल

26/11 हमलों के बाद भारत की ख़ुफ़िया एजेंसी और पुलिस प्रणाली में काफ़ी सुधार और बदलाव की बात की गई थी. लेकिन ज़मीनी स्थिति क्या है? क्यों हमारी ख़ुफ़िया एजेंसी और पुलिस प्रणाली चरमपंथ हमलों को रोकने में नाकाम रही?

यही सवाल पूछा बीबीसी संवाददाता शालू यादव ने सुरक्षा मामलों के जानकार, रिटायर्ड मेजर जनरल अफ़सर करीम से.