धमाकों में घायल दो और लोगों की मौत, जांच में तेज़ी

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption धमाकों में घायल सौ से अधिक लोगों का इलाज अस्पतालों में हो रहा है

महाराष्ट्र की आतंकवाद निरोधी शाखा जल्दी ही मुंबई धमाकों से जुड़े एक संदिग्ध व्यक्ति का स्केच जारी करेगी.

महाराष्ट्र की आतंकवाद निरोधी शाखा के प्रमुख राकेश मारिया ने शनिवार को एक प्रेस वार्ता में बताया कि धमाकों के समय की सीसीटीवी रिकॉर्डिंग बहुत स्पष्ट नहीं है.

उन्होंने कहा कि इसलिए रिकॉर्डिंग के माध्यम संदिग्ध लोगों की पहचान के लिए तकनीकी विशेषज्ञों की सहायता ली जा रही है.

उन्होंने साथ ही बताया कि धमाकों में इस्तेमाल किया गया विस्फोटक अमोनियम नाइट्रेट था.

उन्होंने हमले में किसी आत्मघाती हमलावर का हाथ होने की संभावना से भी इनकार कर दिया.

दो और मौतें

अधिकारियों के अनुसार मुंबई धमाकों में घायल दो और लोगों की मौत हो गई है.

इस तरह बुधवार को हुए तीन बम धमाकों में मारे गए लोगों की संख्या बढ़कर 19 हो गई है.

सौ से अधिक घायलों का अस्पताल में इलाज हो रहा है.

अभी तक किसी भी गुट ने बम धमाकों की ज़िम्मेदारी स्वीकार नहीं की है.

13 जुलाई की शाम को बिल्कुल व्यस्त समय में मुंबई में तीन जगहों – ज़वेरी बाज़ार, ओपेरा हाउस और दादर – में कुछ ही मिनटों के अंतराल पर बम धमाके हुए थे.

पुलिस का कहना है कि हैदराबाद, बंगलौर और पश्चिम बंगाल में कुछ लोगों के साथ पूछताछ की जा रही है जिनपर चरमपंथी संगठनों से संपर्क होने का संदेह है.

जाँच

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार महाराष्ट्र का आतंकवाद निरोधी दस्ता कर्नाटक और गुजरात की जेलों में बंद चरमपंथी संगठन इंडियन मुजाहिदीन के संदिग्ध सदस्यों से पूछताछ कर सकते हैं.

अहमदाबाद में वे इंडियन मुजाहिदीन के संदिग्ध सदस्य दानिश रियाज़ से पूछताछ कर सकते हैं जिसे गुजरात में 2008 में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के संबंध में पकड़ा गया था.

कर्नाटक में पुलिस ऐसे लोगों से पूछताछ कर सकती है जिनके संबंध इंडियन मुजाहिदीन के संस्थापक सदस्यों रियाज़ भटकल और इक़बाल भटकल से हो सकते हैं.

पीटीआई के अनुसार एटीएस ने कोलकाता पुलिस से भी संदिग्ध लोगों की गतिविधियों की जानकारी लेने के लिए सहयोग माँगा है.

संबंधित समाचार