भारत-अमरीका कूटनीतिक वार्ता शुरू

फ़ाइल चित्र इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मुंबई बम धमाकों के मद्देनज़र हिलेरी क्लिंटन के दौरे को महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

भारतीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन से सुबह मुलाक़ात करने के बाद अमरीका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन प्रतिनिधि मंडल स्तर की बातचीत के लिए हैदराबाद हाउस पहुंच गई हैं.

भारतीय विदेश मंत्री एसएम कृष्णा के साथ बैठक के दौरान आतंकवाद से निपटने के लिए सहयोग में बढ़ावा देने के साथ-साथ असैन्य परमाणु क़रार को तेज़ी से लागू करने जैसे मुद्दों पर चर्चा होगी.

अमरीकी विदेश मंत्री सोमवार रात दो दिनों की भारत यात्रा के सिलसिले में दिल्ली पहुंची हैं जहां से वो बुधवार को दक्षिणी राज्य तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई जाएंगी.

हिलेरी क्लिंटन के साथ अमरीका के विभिन्न विभागों से संबंधित एक 25-सदस्यीय दल भी भारत की यात्रा पर है. इसमें अमरीकी गुप्तचर विभाग के प्रमुख जेम्स क्लैपर, राष्ट्रपति के विज्ञान और तकनीक सहायक और आंतरिक सुरक्षा की अधिकारी भी शामिल हैं.

हिलेरी क्लिंटन की यात्रा मुंबई में हुए धमाकों के ठीक दूसरे हफ्ते हो रही है. हालांकि भारत ने मुंबई हमलों के संबंध में अब तक पाकिस्तान का नाम नहीं लिया है. लेकिन भारत कहता रहा है कि पाकिस्तान में भारत विरोधी आतंकवादी समूहों का अड्डा है और समझा जाता है कि ये मामला बातचीत के दौरान ज़रूर उठेगा.

अहम वार्ता

मुंबई में एक के बाद एक हुए तीन बम धमाकों में 19 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 100 से अधिक लोग घायल हुए थे.

भारतीय टीवी चैनलों ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि दोनों देश साइबर सुरक्षा और नागरिक उड्डयन के क्षेत्र में संधियों पर हस्ताक्षर कर सकते हैं.

मंगलवार को होने वाली बैठक भारत-अमरीका कूटनीतिक वार्ता का दूसरा दौर है.

अमरीकी विदेश मंत्री प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी और कुछ अन्य नेताओं से भी मिलेंगी.

हिलेरी क्लिंटन चेन्नई में अमरीकी कंपनियों के प्रतिनिधियों से मिल सकती हैं.

भारत-अमरीका रणनीतिक वार्ता की शुरुआत 2009 में हिलेरी क्लिंटन और एसएम कृष्णा ने की थी ताकि दोनों देशों के बीच विभिन्न मुद्दों पर सहयोग के लिए ढाँचा तैयार हो सके और इसे दिशा मिल सके.

इस वार्ता की पहली बैठक पिछले साल वाशिंगटन में हुई थी.

संबंधित समाचार