सीमा विवाद पर समझौते की उम्मीद

चिदंबरम
Image caption अपनी यात्रा में गृहमंत्री पी चिदंबरम विभिन्न नेताओं से मुलाकात करेंगे

गृह मंत्री पी चिदंबरम शुक्रवार को आधिकारिक यात्रा पर बांग्लादेश की राजधानी ढाका पहुँच रहे हैं. उम्मीद है कि इस दौरान सीमा निर्धारण और ज़मीन की विभिन्न पट्टियों पर विवाद पर होने वाले समझौते को अंतिम रूप दे दिया जाएगा.

अपनी यात्रा में चिदंबरम की मुलाक़ात बांग्लादेश की गृह मंत्री सहारा खातून से होगी. उम्मीद है कि वो प्रधानमंत्री शेख़ हसीना, विपक्ष की नेता ख़ालिदा ज़िया और दूसरे नेताओं से भी मिलेंगे.

पिछले हफ़्ते दोनो देशों के अधिकारियों ने 162 ज़मीनी पट्टों पर रहने वाले लोगों की गिनती पूरी कर ली थी.

ये पट्टे भारत और बांग्लादेश की सीमा के दोनो तरफ़ फ़ैले हुए हैं और भारतीय उपमहाद्वीप के विभाजन के दिनों से ही सीमा विवाद का कारण बने हुए हैं.

मुश्किल

विवाद की वजह से लोगों की कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

बांग्लादेश और भारत की संयुक्त सीमा 4096 किलोमीटर की है, जिनमें 6.1 किलोमीटर की सीमा अभी भी चिह्नित नहीं है. उम्मीद है कि गृहमंत्री के ढाका दौरे में समझौते को आख़िरी रूप दे दिया जाएगा.

दोनो देशों के बीच इस तरह के 162 ज़मीनी पट्टे हैं, जिनमें 111 भारतीय पट्टे बांग्लादेश की सीमा के भीतर हैं.

दोनो देशों के बीच संयुक्त सीमा कार्यबल और गृह सचिव स्तर की बैठकें होती रही हैं और ये 1974 के इंदिरा-मुजीब सरकार के समझौते के तहत ही हैं.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सितंबर में बांग्लादेश का दौरा करने वाले हैं और इस दौरान दोनो देशों के बीच सीमा समझौते पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद है.

संबंधित समाचार