क्रेडिट रेटिंग गिरने पर भारत चिंतित

प्रणब मुखर्जी इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अमरीका की क्रेडिट रेटिंग गिरने पर प्रणब मुखर्जी ने चिंता जताई.

अमरीका में क्रेडिट रेटिंग गिरने पर भारत के वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि स्थिति चिंताजनक है साथ ही उन्होंने स्थिति की विश्लेषण करने की ज़रुरत बताई है.

पत्रकारों के एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा, " हमें स्थिति का विश्लेषण करना होगा और इसमें थोड़ा समय लगेगा. स्थिति बहुत ही गंभीर है और बिना सोचे समझे कोई भी बयान देने से फ़ायदा नहीं होगा."

अमरीका की शीर्ष क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों में से एक ने अमरीका की क्रडिट रेटिंग गिरा दी है जिसपर भारत ने भी चिंता जताई है.

स्टैंडर्ड एंड पूअर्स (एसएंडपी) ने अमरीका के बढ़ते बजट घाटे की चिंताओं के बीच उसकी लंबी अवधि की क्रेडिट रेटिंग एएए+ से घटाकर एए+ कर दी है.

क्रेडिट रेटिंग में इस कटौती की वजह बढ़ती अफ़वाहों के बीच अमरीका के एक अधिकारी ने अमरीकी मीडिया से कहा है एसएंडपी ने जो आर्थिक स्थिति का जो विश्लेषण किया है वह ग़लत है.

इससे एक दिन पहले अमरीकी और यूरोपीय बाज़ार में गिरावट देखी गई थी जिसका असर भारतीय शेयर बाज़ार पर भी पड़ा था.

बॉम्बे स्टॉक एक्चेज़ का सूचकांक 387 अंक नीचे लुढ़क कर 17305 पर आकार बंद हुआ था.

हालांकि प्रणब मुखर्जी ने इसे अंतराष्ट्रीय बाज़ार में हो रही उथल-पुथल बताया था.

भारतीय रिज़र्व बैंक ने कहा था कि भारत को वैषविक बाज़ार में अस्थिरता को आत्मसात करके रहना होगा.

संबंधित समाचार