आंध्र प्रदेश में बंद का आह्वान

आंध्र प्रदेश में तेलंगाना को लेकर पहले से ही आंदोलन तेज़ है
Image caption आंध्र प्रदेश में तेलंगाना को लेकर पहले से ही आंदोलन तेज़ है

दक्षिण भारतीय राज्य आंध्र प्रदेश के तीनों क्षेत्रों- तेलंगाना, आंध्र और रायल सीमा में बुधवार को बंद का आह्वान किया गया है.

हैदराबाद में बीबीसी संवाददाता उमर फ़ारुक़ के अनुसार अलग तेलंगाना राज्य का समर्थन करने वालों ने हैदराबाद में सरकारी नौकरियों को तेलंगाना के लोगों के लिए सीमित करने की माँग के साथ बंद का आह्वान किया है वहीं आंध्र और रायलसीमा के संगठनों ने इस मांग के विरोध में बंद बुलाया है.

तेलंगाना समर्थकों की माँग है कि केंद्र सरकार 1975 के राष्ट्रपति के अध्यादएश में शामिल धारा 14 एफ़ को रद्द करे. उसके तहत हैदराबाद को एक ऐसा फ़्री ज़ोन बताया गया है जहाँ सरकारी नौकरियों पर पूरे आंध्र प्रदेश के लोगों का अधिकार होगा.

तेलंगाना समर्थकों का कहना है की भौगोलिक रूप से हैदराबाद तेलंगाना क्षेत्र का हिस्सा है इसलिए वहाँ की नौकरियों पर केवल स्थानीय लोगों का हक़ होना चाहिए.

इस मांग को लेकर बढ़ते हुए तनाव और टकराव की आशंका को देखते हुए केंद्र सरकार ने राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को सिफ़ारिश करने का फैसला किया है कि हैदराबाद की फ्री ज़ोन की हैसियत को ख़त्म कर दिया जाए.

दोनों पक्ष नाराज़

Image caption इस बार तेलंगाना समर्थक और विपक्षी दोनों गुटों ने बंद का आह्वान किया है

अब इसके समर्थकों का कहना है कि सिर्फ़ सिफ़ारिश ही काफ़ी नहीं है और जब तक राष्ट्रपति की ओर से नया अध्यादेश नहीं जारी होता वह अपना आंदोलन जारी रखेंगे. इसी के तहत बुधवार को बंद का आह्वान हुआ है.

दूसरी ओर तेलंगाना का विरोध करने वाले संगठनों ने केंद्र सरकार के उस फ़ैसले के विरोध में बुधवार को तटीय आंध्र और रायल सीमा क्षेत्रों में बंद बुलाया है.

उन दोनों क्षेत्रों के लोगों और संगठनों ने इसे काला दिवस बताते हुए कहा है कि उस फ़ैसले के विरुद्ध जनांदोलन छेड़ा जाएगा.

केंद्र सरकार ने काफ़ी टालमटोल के बाद यह फ़ैसला ऐसे समय में लिया है जबकि पुलिस सब इंस्पेक्टरों की भर्ती के लिए शनिवार और रविवार को हैदराबाद में परीक्षाएँ होने वाली हैं.

तेलंगाना समर्थकों ने चेतावनी दी है कि जब तक धारा 14 एफ़ रद्द नहीं हो जाती वह ये परीक्षाएँ नहीं होने देंगे.

दूसरी ओर राज्य सरकार ये परीक्षाएं किसी भी क़ीमत पर करवाने की बात कह चुकी है. इसे देखते हुए परीक्षा के लिए कड़े सुरक्षा प्रबंध किए जा रहे हैं.

पुलिस आयुक्त अब्दुल क़य्यूम ख़ान ने कहा है कि बुधवार से एक सप्ताह तक हैदराबाद में निषेधाज्ञा लागू रहेगी.

यह एक महीने में तीसरी बार है जबकि तेलंगाना समर्थक संगठनों ने तेलंगाना में बंद का आह्वान किया है. इसके अलावा अलग राज्य के समर्थन में 16 अगस्त से अनिश्चितकाल की आम हड़ताल भी होने वाली है जिसमें सरकारी कर्मचारी, अध्यापक, डॉक्टर, वकील और मज़दूर आदि वर्ग के लोग हिस्सा लेंगे.

संबंधित समाचार