अब पंजाब में 'आरक्षण' पर आपत्ति

 अमिताभ बच्चन इमेज कॉपीरइट pr agency
Image caption आरक्षण के डायलॉग को लेकर अनुसूचित जाति आयोग ने आपत्ति जताई है

उत्तर प्रदेश के बाद अब पंजाब सरकार ने भी प्रकाश झा की विवादित फ़िल्म आरक्षण को रिलीज़ ना होने देने का निर्णय लिया है.

राज्य सरकार ने शंका जाताई है कि इस फ़िल्म के कुछ सीन और संवादों से राज्य में तनाव फैल सकता है.

शिरोमणि अकाली दल की सरकार ने कहा है कि यह प्रतिबंध तब तक लागू रहेगा जब तक एक स्क्रीनिंग कमेटी फ़िल्म को देख कर अपनी रिपोर्ट सरकार को नहीं सौंप देती.

यह समिति शुक्रवार को फ़िल्म देखने के बाद अपना निर्णय सुनाएगी.

प्रकाश झा के निर्देशन में बनी इस फ़िल्म में अमिताभ बच्चन, सैफ अली खान, मनोज बाजपेयी और कैटरीना कैफ़ जैसे नामचीन अदाकारों ने काम किया है.

फ़िल्म शुक्रवार को ही रिलीज़ होनी है.

पसरता विवाद

बुधवार को उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में इस फ़िल्म को दिखाए जाने पर दो महीने का प्रतिबंध लगा दिया था.

मायावती सरकार ने यह अंदेशा व्यक्त किया था कि इस फ़िल्म की वजह से कहीं राज्य में कानून व्यवस्था का संकट न पैदा हो जाए.

इस बीच राष्ट्रीय अनूसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष पी एल पूनिया ने भी इस फ़िल्म पर आपत्ति दर्ज कराई है.

समाचार एजेंसी पी टी आई ने पूनिया के हवाले से कहा है " इस फ़िल्म में मुख्यत: शिक्षा के व्यवसायीकरण की बात कही गई है. लेकिन इसमें पिछड़ी जातियों के लोगों के खिलाफ़ के आपत्तिजनक टिप्पणियाँ भी की गईं हैं. हमने सेंसर बोर्ड से कहा है कि वो इस फ़िल्म में ज़रूरी बदलाव करे."

इसके पहले नौ सदस्यीय सेंसर बोर्ड ने इस फ़िल्म को बिना किसी बड़ी काट छांट के पास कर दिया था. इस फ़िल्म को यूए सर्टिफिकेट मिला है.

संबंधित समाचार