अनचाहे एसएमएस से मिलेगी निजात

मोबाइल
Image caption उपभोक्ता 1909 नंबर पर अपना टेलीफोन नंबर दर्ज कराकर अनचाहे एसएमएस से निजात पा सकते है.

अगर आप मोबाइल उपभोक्ता हैं और दिन भर आने वाले अनचाहे संदेशों यानि एसएमएस से परेशान हो चुके हैं तो यह अच्छी खबर आपके लिए है.

दूरसंचार मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा है कि अगामी 6 हफ्ते में जनता को अनचाहे एसएमएस से होने वाली परेशानी से मुक्ति मिल जाएगी.

थोक में आने वाले ऐसे संदेश जिन्हें उपभोक्ता नापसंद करते हों उन पर पाबंदी लगाने के लिए पंजीकरण की सुविधा दी जाएगी. जिससे भविष्य में मोबाइल पर इस तरह के एसएमएस आने बंद हो जाएंगे.

इसके तहत कोई भी उपभोक्ता 1909 नंबर पर अपना टेलीफोन नंबर दर्ज कराकर अनचाहे एसएमएस से निजात पा सकता है.

1909 पर नंबर दर्ज कराएं

कपिल सिब्बल ने शुक्रवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान बताया कि इसके लिए पर्यटन, रियल एस्टेट, क्रेडिट कार्ड, बैंकिंग, फाइनेंस जैसी कुल सात श्रेणियाँ बनाई गई हैं.

उपभोक्ताओं के पास यह विकल्प होगा कि वह जिस श्रेणी के एसएमएस से निजात पाना चाहते है उन्हें उस श्रेणी के बारे में 'नेशनल डू नॉट कॉल' के फ्री नंबर 1909 पर फोन कर या एसएमएस भेज करके पंजीकरण कराना होगा.

नंबर के पंजीकरण के बाद यह प्रत्येक टेलीकॉम ऑपरेटर की सर्विस में दर्ज हो जाएगा. जब भी टेलीमार्केटिंग करने वाला व्यक्ति एसएमएस भेजने की कोशिश करेगा तो सर्वर उस संदेश को ब्लॉक कर देगा. दूरसंचार मंत्री ने कहा कि यदि आपका नंबर पंजीकृत है तो आपको अनचाहे संदेश नहीं मिलेंगे.

भारतीय जनता पार्टी के एम वेंकैया नायडू ने सवाल किया कि टेलीमार्केटिंग करने वाले, उपभोक्ताओं के फोन नंबर कैसे हासिल करते हैं.

इस पर सिब्बल ने कहा कि सरकार या दूरसंचार सेवाप्रदाता कंपनियां उन्हें उपभोक्ताओं के नंबर नहीं मुहैया कराते, बल्कि टेलीमार्केटिंग करने वाले ख़ुद किसी तरह से स्वयं नंबर हासिल कर लेते हैं.

पर जहां तक अनचाही कॉल्स का सवाल है इसका मामला थोड़ा मुश्किल है और इन पर रोक लगाने पर काम किया जा रहा है.

सिब्बल ने कहा कि उल्लंघन करने पर दोषी टेलीमार्केटिंग कंपनियों के टेलीकॉम कनेक्शन काटना, उन्हें काली सूची में डालने और जुर्माने जैसे दण्ड शामिल है.

संबंधित समाचार