गतिरोध ख़त्म करने के लिए बातचीत

अन्ना हज़ारे इमेज कॉपीरइट Reuters

लोकपाल विधेयक को लेकर अन्ना हज़ारे की टीम और केंद्र सरकार के बीच जारी गतिरोध को समाप्त करने के लिए लगातार दूसरे दिन व्यापक विचार-विमर्श का दौर जारी है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ अन्ना हज़ारे की टीम ने सरकार के सामने लोकपाल विधेयक का एक नया मसौदा पेश किया है, लेकिन माना जा रहा है कि अब भी दो-तीन मुद्दों पर असहमति क़ायम है.

अन्ना हज़ारे की टीम के तीन सदस्यों अरविंद केजरीवाल, प्रशांत भूषण और किरण बेदी ने केंद्रीय क़ानून मंत्री सलमान ख़ुर्शीद के साथ लंबी बातचीत की.

इस बैठक में पूर्वी दिल्ली के सांसद संदीप दीक्षित और दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के क़रीबी पवन खेड़ा भी शामिल हुए.

बातचीत

क़रीब 90 मिनट तक चली बैठक के बाद दोनों पक्षों ने कहा कि बातचीत में प्रगति हुई है.

लेकिन इसके अलावा उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार किया. पत्रकारों से बातचीत में प्रशांत भूषण ने कहा, "बातचीत जारी है और आगे भी जारी रहेगी, लेकिन फ़िलहाल कोई ठोस हल नहीं निकल पाया है."

बुधवार को ही इस मामले में एक सर्वदलीय बैठक होने वाली है और इसके बाद अन्ना हज़ारे की टीम और केंद्र सरकार के प्रतिनिधियों के बीच एक और दौर की बातचीत होगी.

अन्ना हज़ारे की टीम की एक प्रमुख सदस्य किरण बेदी ने कहा कि अब भी तीन मुद्दों पर सरकार के साथ असहमति बनी हुई है, ये तीन मुद्दे हैं- सिटीज़न चार्टर, निचली नौकरशाही को लोकपाल के दायरे में लाना और लोकपाल के माध्यम से हर राज्य में लोकायुक्त की नियुक्ति.

संबंधित समाचार