'अभी नहीं कह सकते ज़िम्मेदार कौन'

चिदंबरम् और मनमोहन सिंह इमेज कॉपीरइट AP

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और गृह मंत्री पी चिदंबरम ने दिल्ली उच्च न्यायालय के बाहर हुए विस्फोट को आतंकवादी घटना बताते हुए कहा है कि अभी इसके लिए किसी को ज़िम्मेदार ठहराना जल्दबाज़ी होगी.

दो दिन की बांग्लादेश यात्रा पर गए डॉक्टर सिंह ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा, "मुझे बम विस्फोट के बारे में पता चला है. मारे गए लोगों के परिजनों और घायलों के प्रति मेरे दिल में संवेदना है."

प्रधानमंत्री ने कहा, "ये आतंकवादियों का एक कायरतापूर्ण क़दम है. हम आतंकवाद के दबाव में झुकेंगे नहीं और इसका सामना करेंगे और ये एक लंबी लड़ाई है जिसमें सभी भारतीयों और सभी राजनीतिक दलों को एक साथ खड़ा होना होगा जिससे बढ़ते आतंकवाद को कुचला जा सके."

उधर गृह मंत्री चिदंबरम ने विस्फोट के बाद संसद में बयान देते हुए बताया कि ख़ुफ़िया एजेंसियों ने जुलाई में दिल्ली पुलिस को ख़तरे की चेतावनी दी थी.

उनका कहना था, "कुछ गुटों से ख़तरे की ख़ुफ़िया जानकारी दिल्ली पुलिस को जुलाई 2011 में दी गई थी मगर ये बम विस्फोट करने वाले गुट के बारे में कुछ भी कहना इस समय संभव नहीं है."

'एनआईए करेगी जाँच'

उन्होंने बताया कि नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी यानी एनआईए इसकी जाँच करेगा और दोषियों को बख़्शा नहीं जाएगा.

चिदंबरम का कहना था, "आतंकवादी गुटों का मक़सद दहशत फैलाना और देश को अस्थिर करना है. मगर हमारे मन में ये बिल्कुल स्पष्ट है कि किसी भी मक़सद के लिए आतंकवादी हरक़त को सही नहीं ठहराया जा सकता."

उन्होंने मारे गए लोगों के प्रति सरकार की ओर से संवेदना व्यक्त की और कहा कि घायलों को बेहतरीन चिकित्सा सुविधा मुहैया कराई जाएगी.

गृह मंत्री ने बताया कि घायलों को ले जाने के लिए घटनास्थल पर एंबुलेंस 20 मिनट के भीतर पहुँच गई थी और एनआईए के अलावा राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड भी वहाँ जाँच कर रहे हैं. इसके अलावा विस्फोट के बाद जाँच करने वाली दिल्ली पुलिस की टीम भी घटनास्थल पर है.

ज़िम्मेदारी

उधर दिल्ली के उप राज्यपाल तेजिंदर खन्ना ने कहा कि घटना की पूरी जाँच की जाएगी. उनका कहना था, "दिल्ली में हमेशा ही आतंकवादी हमले का ख़तरा बना रहता है और ज़रूरी है कि दिल्ली पुलिस और लोग हमेशा सतर्क रहें."

खन्ना ने बताया, "जो भी कमी रही और ये धमाके हुए ये काफ़ी अफ़सोस की बात है और हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि दोबारा ऐसी घटना न घटे."

उन्होंने विफलता की कुछ हद तक ज़िम्मेदारी भी ली और कहा, "इसकी पूरी छानबीन होगी कि कैसे ये विस्फोट हुआ और कहाँ ख़ामी रह गई. इसकी बतौर उप राज्यपाल मेरी ज़िम्मेदारी भी बनती है."

संबंधित समाचार