इतिहास के पन्नों से

इतिहास के पन्नों में दस सितंबर का दिन कई वजहों से याद रखा जाएगा.

2002: स्विटज़रलैंड शामिल हुआ संयुक्त राष्ट्र में

Image caption स्विटज़रलैंड संयुक्त राष्ट्र का नया सदस्य बना

स्विटज़रलैंड जो कि अब तक एक तटस्थ देश था, आज ही के दिन संयुक्त राष्ट्र में शामिल हुआ. इस देश को सयुंक्त राष्ट्र की सदस्यता के लिए तैयार होने में काफ़ी लंबा समय लगा.

1986 में देश की एक तिहाई आबादी ने इस योजना के ख़िलाफ़ मतदान दिया. 2002 में हुए सफल जनमत संग्रह के बाद ही स्विटज़रलैंड की सरकार ने इस संगठन में सदस्यता के लिए आधिकारिक तौर पर आवेदन दिया.

दस सितंबर 2002 को संयुक्त राष्ट्र की आम सभा ने न्यू यार्क में स्विटज़रलैंड को इस संगठन के 190वें सदस्य के रूप में शामिल किया.

1973: सेंट्रल लंदन बम धमाके से दहला

Image caption सेंट्रल लंदन में हुए दो धमाकों में 13 लोग घायल हुए.

आज ही के दिन, सेंट्रल लंदन के प्रमुख स्टेशनों पर हुए दो धमाकों के बाद स्कॉटलैंड यार्ड को एक नौजवान की तलाश में जुट गई, जिस पर इन हमलों का शक था. इन हमलों में 13 लोग घायल हुए. पूरे लंदन शहर में अफ़रातफ़री का माहौल हो था.

पहला धमाका किंग्स क्रॉस पर हुआ जिसमें पांच लोग घायल हुए. इस धमाके से ठीक कुछ सेकेंड पहले एक प्रत्यक्षदर्शी ने एक नौजवान को टिकट बुकिंग हॉल में एक बैग फेंकते देखा.

पचास मिनट बाद यूस्टन स्टेशन पर एक जलपान गृह में दूसरा धमाका हुआ, जिसमें आठ और घायल हुए.

किसी संगठन ने इन धमाको की ज़िम्मेदारी नहीं ली लेकिन पुलिस का कहना था कि लगभग एक से डेढ़ किलो के वज़न वाले बम आम तौर पर आईरिश रिपब्लिकन आर्मी (आई आर ए) के ही लगते है.

किंग्स क्रॉस बम धमाका बिना किसी चेतावनी के स्थानीय समयानुसार 12.24 मिनट पर हुआ. इस धमाके से पुराने बुकिंग हॉल के शीशे चकनाचूर हो गए और एक सामान की ट्रॉली कई फुट उपर उछल गई.

एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा, “ मैंने एक कुछ चमकता देखा और फिर कई लोग हवा में उछल गए. अचानक चीख़ने चिल्लाते दिखे. वो बेहद भयानक था."

दूसरे धमाके से ठीक पहले प्रेस एसोसिएशन को एक फोन आया . आयरिश लहजे़ में बात करते एक व्यक्ति ने चेताया कि पुलिस के पास दूसरे स्टेशनों को ख़ाली करने का बहुत कम समय बाक़ी है.

स्काट लैंड यार्ड का कहना था कि उनके पास दिन भर में सैंकड़ो फर्ज़ी टेलिफ़ोन कॉल आई जिसके चलते उन्हें तीन और स्टेशनों को खाली कराना पड़ा.