हैप्पी हिंदी डे....

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption भारत के सारे कार्यालयों में हिंदी दिवस मनाया जाता है.

आज हिंदी डे है..इसलिए आज अपुन इंग्लिश बोलेगा....बिकॉज आई कैन टॉक इंग्लिश, आई कैन वॉक इंग्लिश एंड आई कैन ऑल्सो लॉफ इंग्लिश...इंग्लिश इज़ ए फन्नी लैंग्वेज़.

हिंदी इतना फन्नी नहीं है...हर दिन बोल नहीं सकता है.सिरफ 14 सेप्टेम्बर को बोलना मांगता है. इसमें इधर उधर कुछ नहीं कर सकता. बोले तो कुछ मिलाने का नहीं. इंग्लिश के साथ अइसा लफड़ा नय मांगता.. अपुन का चाय भी इंग्लिश डिक्शनरी में आएला है. जंगल भी है और क्या मालूम क्या क्या अपुन के लैंग्वेज़ का इंग्लिश में है. गोरा लोग भी चाय मांगता है बोले तो टी....

हिंदी वाला भी टी ही मांगता है. बोलता है....एक कप चाय पिलाइए...अरे इत्ता लंबा समझेगा कौन..बोलने का 'चाय'.........ले के आएगा 'चाय'...कप पिलेट के चक्कर में हिंदी का बोल बम हो गएला है. बोल बम बोले तो बोल बम. अभी इसका ट्रांसलेशन तो कोई झोला छाप हिंदी वाला करेगा.

वो भी बिचारा एक ठो आइटम है. दाढ़ी बढ़ा के सैड मूड में बैठेला रहता है. हिंदी हिंदी बोल बोल के टेंशन देताइच रहता है और खुद भी लेता रहता है. आज के दिन बहुत गुस्से में है अपना दाढ़ी वाला फ्रेंड. बोलता है आज का दिन में कम से कम हिंदी बोलने का..

मैं बोला उसको- काय कू बोलने का हिंदी विंदी...अपुन का लैंग्वेज़ हिंदी नहीं. अपुन का लैंग्वेज़ तो बंबइया....एकदम रापचिक दिएला उसको ठोक के. सड़ेला टमाटर के माफिक मुंह बनाके बैठेला है उधर.

दाढ़ीवाले का दोस्त सब गिटर पिटर इंग्लिश बोलता है मर्सिडीज़ में घूमता है. दाढ़ी वाला बोला ये सब अंग्रेज़ी में हिंदी फ़िल्म बनाता है. दाढ़ी वाला बढ़िया आदमी है..बहुत आइडिया फाइडिया है उसको पन इंग्लिश नहीं बोलता गिट पिट इसलिए कम पगार पर इस्टोरी लिखता है मर्सिडीज़ वालों के लिए.

अपना क्या है..अपुन तो जान गएला है..अपने को तो मर्सिडीज़ में बैठने का है ...झोला ले के घूमने का नय..इसलिए अपुन डिसाइड किएला है...हिंदी डे के दिन अंग्रेजी बोलने का...

इसलिए..आप सब को हैप्पी हिंदी डे ब्रो

(एक बंबईया छोटे मोटे भाई की डायरी से...हिंदी दिवस पर )