सरकार ने बलात्कार पीड़ितों का नाम बताया

उमर अब्दुल्लाह (फ़ाईल फोटो)
Image caption राज्य सरकार ने ये जानकारी सार्वजनिक कर एक नए विवाद को जन्म दे दिया है.

भारत प्रशासित कश्मीर में राज्य सरकार ने ही बुधवार को राज्य के सैंकड़ों बलात्कार पीड़ितों का नाम सार्वजनिक कर दिया.

राज्य के गृह मंत्रालय ने बलात्कार पीड़ितों के नाम और उनके पूरे पते की सूची राज्य विधान परिषद में पेश कर दी

राज्य के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्लाह के पास ही गृह मंत्रालय का कार्यभार भी है.

राज्य सरकार ने ये सारी जानकारी विधान परिषद के एक सदस्य सुभाष चंद्र गुप्त के सवाल के जवाब में दी.

सुभाष चंद्र गुप्त ने सरकार से पिछले पांच वर्षों में राज्य में हुई बलात्कार की घटनाओं और अभियुक्तों की जानकारी मांगी थी.

राज्य के महाधिवक्ता इस्हाक़ क़ादरी ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने कई फ़ैसलों में ये आदेश दिए हैं कि बलात्कार की पीड़ितों के नाम सार्वजनिक नहीं किए जाने चाहिए.

लेकिन उनका ये भी कहना था, ''ये आदेश न्यायपालिका के बारे में है. मुझे नहीं पता कि ये कार्यपालिका पर भी लागू होती है या नहीं.''

सिर्फ़ एक को सज़ा

सरकार की तरफ़ से सार्वजनिक की गई जानकारी के मुताबिक़ राज्य में जम्मू और राजधानी श्रीनगर में बलात्कार के सबसे ज़्यादा मामले सामने आए हैं.

जम्मू में वर्ष 2006 से अब तक 150 बलात्कार के मामले हुए हैं जबकि श्रीनगर में उसी दौरान 120 मामले सामने आए हैं.

पूरे राज्य में 2006 से अब तक 1326 बलात्कार की घटनाएं हुई हैं.

लेकिन सबसे चौंकाने वाली बात ये है कि पिछले पांच वर्षो में केवल एक व्यक्ति को बलात्कार का दोषी पाया गया है और उसे सज़ा सुनाई गई है.

ज़्यादातर मामले अदालत के सामने हैं या फिर अभी उनकी जांच ही चल रही है.

क़ानून के अनुसार किसी भी बलात्कार पीड़ित का नाम या उसकी पहचान सार्वजनिक नहीं किया जा सकता.

संबंधित समाचार