दयानिधि मारन के घर-दफ्तर पर सीबीआई छापे

Image caption दयानिधि मारन पर भी कुछ कंपनियों को लाभ दिलाने के आरोप लगते रहे हैं.

सीबीआई ने पूर्व केंद्रीय दूरसंचार मंत्री दयानिधि मारन और उनके भाई कलानिधि मारन के दफ्तरों पर छापे मारे हैं.

बताया जाता है कि सीबीआई ने कल देर रात दोनों के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज़ किए थे जिसके बाद सोमवार को कई स्थानों पर छापे मारे जा रहे हैं.

चेन्नई में दयानिधि मारन के घर पर छापे मारे गए हैं जबकि इसके अलावा हैदराबाद, दिल्ली और कुछ अन्य जगहों पर भी छापे मारे गए हैं.

टीवी पर दिखाई जा रही तस्वीरों के अनुसार सीबीआई अधिकारियों ने सुबह साढ़े सात बजे ही छापे मारने शुरु किए और इस समय विभिन्न स्थानों पर छापों की कार्रवाई चल रही है.

सीबीआई ने दयानिधि और कलानिधि के अलावा एस्ट्रो कंपनी के सीईओ राल्फ मार्शल और आनंदकृष्णन के ख़िलाफ़ भी मामला दर्ज किया है जिन्होंने कलानिधि मारन के टीवी चैनल में पैसों का निवेश किया था.

सीबीआई ने भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की धारा के तहत मारन बंधुओं के साथ साथ सन टीवी, एस्प्रो और मैक्सिस के ख़िलाफ़ रिपोर्ट दर्ज की है.

सीबीआई की प्रवक्ता धरिणी मिश्रा के अनुसार सीबीआई ने मारन बंधुओं, राल्फ मार्शल और टी आनंदकृष्णन तथा तीन कंपनियों के ख़िलाफ़ 120 बी, 13(2) और 13 (1) (d) के तहत आरोप लगाए हैं और ये आरोप नौ अक्तूबर की रात में रजिस्टर्ड किए गए जिसके बाद छापे मारे जा रहे हैं.

दयानिधि मारन पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने दूरसंचार मंत्री रहने के दौरान मैक्सिस नाम की कंपनी को फायदा पहुंचाया. सीबीआई के अनुसार दयानिधि मारन को 600 करोड़ रुपए की घूस मिली जिसके एवज में उन्होंने कंपनी को फायदा पहुंचाया. एयरसेल-मैक्सिस कंपनी के बीच हुआ बड़ा सौदा विवाद में चल रहा था.

उल्लेखनीय है कि मैक्सिस कंपनी का नाम 2 जी घोटाले में आया था. दयानिधि मारन ने कुछ ही समय पहले मंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया था. जब दयानिधि मारन ने इस्तीफ़ा दिया तब वो कपड़ा मंत्री थे.

अगर दयानिधि और कलानिधि मारन को गिरफ्तार किया जाता है तो द्रमुक और कांग्रेस के बीच रिश्तों में और भी खटास आ जाएगी क्योंकि पार्टी के दो बड़े नेता ए राजा और द्रमुक प्रमुख की बेटी कनिमोई पहले से ही 2 जी मामले में जेल में हैं.

मारन के यहाँ छापों के बाद सन टीवी के शेयरों में सोमवार को ज़बर्दस्त गिरावट देखी गई है.