'उपचुनावों में हार का सरकार से लेना देना नहीं'

Image caption प्रधानमंत्री ने चुनाव नतीजों के कारण अपनी सरकार और पार्टी का बचाव किया

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि उपचुनावों में कांग्रेस पार्टी की करारी हार उनकी सरकार के प्रदर्शन को नहीं दर्शाता है.

प्रीटोरिया शहर में संवाददातओं से बातचीत में प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के किसी एक कोने में उपचुनाव को पूरे सरकार के कामकाज़ पर टिप्पणी नहीं माना जा सकता.

उनका कहना था, ‘‘ देश के एक दो हिस्से में हुए उपचुनावों को मेरी सरकार या पार्टी के कामकाज़ से जोड़कर देखना सही नहीं होगा.’’

उल्लेखनीय है कि हाल में पाँच सीटों के लिए हुए उपचुनावों में कांग्रेस पार्टी हर सीट पर हारी थी. इसमें सबसे अधिक चर्चा में हिसार की सीट रही जहां अन्ना ने जनलोकपाल के समर्थन में और कांग्रेस के विरोध में प्रचार किया था.

हिसार में कांग्रेस प्रत्याशी की ज़मानत जब्त हो गई थी.

विपक्षी दलों ने उपचुनावों के परिणामों के बाद कहा था कि ये चुनाव सरकार से लोगो की नाखुशी दर्शाता है.

कांग्रेस ने चुनावों के बाद कहा था कि हिसार लोकसभा चुनावों में भी पार्टी को जीत नहीं मिली थी इसलिए हिसार के परिणामों को अधिक महत्व नहीं दिया जाना चाहिए.

पार्टी महासचिव बीके हरिप्रसाद ने कहा कि ये हार अप्रत्याशित नहीं थी क्योंकि पिछले चुनावों में भी पार्टी इस सीट पर तीसरे नंबर पर रही थी.

हिसार उपचुनावों में बीजेपी और हरियाणा जनहित कांग्रेस के संयुक्त उम्मीदवार कुलदीप विश्नोई को जीत मिली थी जो राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल के पुत्र हैं. विश्नोई ने इंडियन लोकदल के अजय चौटाला को हराया.

कांग्रेस का कहना था कि भजनलाल तीन बार हरियाणा के मुख्यमंत्री रहे हैं और उन्हीं के प्रति सहानुभूति के कारण विश्नोई को जीत मिली है.

संबंधित समाचार