हिंसा के बीच सर उठाता संगीत

 शुक्रवार, 21 अक्तूबर, 2011 को 21:57 IST तक के समाचार

हिंसा के बीच सर उठाता संगीत

अलगाववादी आंदोलन और चरमपंथ के बीच भारत प्रशासित कश्मीर में इन दिनों रॉक संगीत युवा वर्ग के बीच प्रचलित हो रहा है.

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

वैकल्पिक मीडिया प्लेयर में सुनें/देखें

अलगाववादी आंदोलन और हिंसा के दृश्यों के बीच भारत प्रशासित कश्मीर में इन दिनों कुछ और सुरीली आवाजें भी सुनाई दे रही हैं.

पिछले कुछ समय से कश्मीर में नवयुवकों की दिलचस्पी 'रॉक संगीत' की ओर बढ़ती दिखाई दे रही है. ‘रॉक’ संगीत की पाश्चात्य शैली है.

कश्मीर के ये उभरते हुए युवा संगीतकार चार से पांच लोगों का एक बैंड बना कर ख़ुद अपने गाने लिखते और इनका संगीत भी बनाते हैं.

इनके गाने पारंपरिक संगीत से अलग हैं. ‘इन्फेस्ट’, ‘ब्लड रॉक्ज़’, ‘एम सी कैश’, और ‘पोएटिक जस्टिस’ इस समय कश्मीर के कुछ प्रचलित रॉक बैंड हैं.

मुश्किल दौर, हालात का ज़िक्र

ध्यान देने योग्य बात ये है कि अपने गानों में कश्मीर के ये युवा बैंड वहाँ के मुश्किल दौर, राजनैतिक हालात और उन तमाम तकलीफों की बात करते हैं जो कश्मीर में रहने वाले लोगों के दैनिक जीवन का हिस्सा हैं.

'एम सी कैश' के नाम से गाने बनाने वाले 20 वर्षीय 'रोशन इलाही' अंग्रेजी में प्रचलित गायन शैली ‘रैप’ में गाते हैं. रोशन ने बीबीसी को बताया कि पिछले साल सितंबर में पुलिस ने उनके रिकॉर्डिंग स्टूडियो में छापा मारा और उसे बंद कर दिया.

रोशन के मुताबिक़ उन्होंने अपने गानों में कश्मीर के कठिन दौर और लोगों की तकलीफ के बारे में गाया, इसी वजह से उनके स्टूडियो को बंद कर दिया गया.

रैप गायक रोशन इलाही

रैप गायक रोशन इलाही

कश्मीर के इन युवा बैंड्स का यह भी कहना है कि इनकी अभिव्यक्ति के मार्ग में तरह तरह की बाधाएं डाली जा रही हैं. स्थानीय लोगों का अपर्याप्त समर्थन और पुलिस का दबाव, दोनों ही इनके लिए बड़ी मुश्किल साबित हो रहा है.

लेकिन ये युवा बैंड संगीत के ज़रिए अपनी अभिव्यक्ति को जारी रखने के मार्ग पर अग्रसर हैं.

सांस्कृतिक मामलों के जानकार वादी में आ रहे इस सांस्कृतिक परिवर्तन के बीच युवा वर्ग की सोच में आ रहे बदलाव को देखते हैं.

इतिहास गवाह है कि पहले भी विश्व भर में रॉक संगीत ने राजनैतिक सक्रियता के बीच सर उठाया है और एक महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है.

कश्मीर विश्वविद्यालय में मीडिया स्टडीज़ की प्रोफ़ेसर सय्यदा अफ्शाना मानती हैं कि नवयुवकों का रॉक संगीत चुनने का कारण ये भी है कि यह संगीत शैली उनके लिए एक प्रकार से विरोध व्यक्त करने का माध्यम है. यह उनके लिए राजनैतिक सक्रियता का प्रतीक है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.