'टीम अन्ना चट्टान की तरह पक्की है'

जनलोकपाल के लिए अभियान चला रही टीम अन्ना ने कहा है कि टीम के सदस्यों पर लगाए जा रहे आरोपों से वो विचलित नहीं हुए हैं और टीम चट्टान की तरह पक्की है.

टीम अन्ना की कोर टीम में फेरबदल को लेकर पिछले दिनों हुई बैठक के बारे में जानकारी देते हुए टीम के सदस्य अरविंद केज़रीवाल ने एक पत्र पढ़ा जो अन्ना ने लिखा था.

चूंकि अन्ना मौन व्रत पर हैं इसलिए उन्होंने चिट्ठी लिखी.

पत्र में कहा गया है कि टीम चट्टान की तरह पक्की है और टीम सदस्यों पर लगाए जा रहे आरोपों की उन्हें चिंता नहीं है.

पत्र में कहा गया है, ‘‘सरकार और कांग्रेस के कुछ लोग हमारे सदस्यों की छवि खराब कर के आंदोलन को बदनाम कर रहे हैं. कुछ लोग टीम को तोड़ना चाहते हैं लेकिन टीम चट्टान की तरह पक्की है.’’

अन्ना ने लिखा है, ‘‘कोर कमिटी को भंग करने की बातें ठीक नहीं हैं. आरोपों की चिंता नहीं करनी. सत्य सत्य होता है. हम डटकर मुकाबला करेंगे.’’

पत्र के अनुसार टीम ने तय किया है कि जनलोकपाल के लिए चल रहे आंदोलन में कोर टीम और वर्किंग कमिटी में सदस्यों के लिए एक संविधान बनाया जाएगा.

केज़रीवाल ने दिग्विजय सिंह या संघ से अन्ना के संबंधों के बारे में उठाए जा रहे सवालों पर कोई जवाब नहीं दिया और कहा कि वो इस बारे में कुछ नहीं कहना चाहेंगे.

केज़रीवाल ने कहा कि आंदोलन के लिए जो भी पैसे मिले हैं वो बैंक में जमा है और इस संबंध में कोई भी जांच कर सकता है क्योंकि सारे खातों का विवरण वो जल्दी ही इंटरनेट पर भी डालने वाले हैं.

इस पत्र के अंत में साफ किया गया है कि कोर कमिटी में अलग अलग विचारधारा के लोग जुड़े हैं जो अलग अलग विषयों पर और मुद्दों पर काम करते रहे हैं और इन पर उनकी अलग अलग राय रहती है जिसे टीम अन्ना की राय न माना जाए.

उल्लेखनीय है कि कश्मीर के मामले में प्रशांत भूषण की राय से अन्ना इत्तेफाक नहीं रखते हैं जिस पर काफी विवाद हुआ था.

संबंधित समाचार