'बीएसएफ़ ने बांग्लादेशी घुसपैठिए को यातनाएं दी'

 शुक्रवार, 4 नवंबर, 2011 को 11:48 IST तक के समाचार
सीमा सुरक्षा बल के अधिकारी

बीएसएफ़ जवानों पर लगे हैं गंभीर आरोप

पश्चिम बंगाल में सीमा पार कर आए एक बांग्लादेशी नागरिक को सीमा पर तैनात जवानों ने क्रूरता से यातनाएं दी हैं.

पुलिस ने इस घटना की पुष्टि की है और सीमा पर तैनात सुरक्षा जवानों को याद दिलाया है कि भारत की क़ानून व्यवस्था सुनिश्चित करने वाली कोई भी एजेंसी, जानकारी निकलवाने के लिए भी किसी व्यक्ति को शारीरिक यातना नहीं दे सकती.

मोहम्मद रबीउल इस्लाम बांग्लादेश में ठाकुरगाँव ज़िले के रहने वाले हैं. उन्हें सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ़) के जवानों ने पिछले महीने के अंत में उत्तर दिनाजपुर ज़िले की मलोन सीमा चौकी पर पकड़ा था.

यह घटना गुरुवार को प्रकाश में आई, जब उत्तरी दिनाजपुर ज़िले के पुलिस प्रमुख ने एक पत्र भेजा, जिसकी एक प्रति बीबीसी के पास है.

प्रताड़ना

ज़िला पुलिस प्रमुख दीपांकर भट्टाचार्य ने बीबीसी को बताया, "जब सीमा सुरक्षा बल के लोग कथित घुसपैठिए रबीउल इस्लाम को हमें सौंपने आए, तो हमें पता चला कि सीमा बल के जवानों ने उन्हें शारीरिक यातनाएं दी थीं और हमने उन्हें हिरासत में लेने से इनकार कर दिया."

गिरफ़्तार किए गए व्यक्ति ने आरोप लगाया है कि बीएसएफ़ के जवानों ने उनके गुप्तांगों में बिजली के झटके दिए.

दीपांकर भट्टाचार्य ने कहा, "उसके बाद हमने उसकी डॉक्टरी जाँच करवाई और डॉक्टर की रिपोर्ट में लगाए गए आरोप सही पाए गए."

सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों का कहना है कि अगर इस बात की पुष्टि हो जाती है कि बीएसएफ़ के जवानों ने ऐसा किया था, तो उन्हें कड़ी सज़ा दी जाएगी.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.