पेट्रोल फिर हुआ महंगा, विपक्ष ने की निंदा

इंडियन ऑयल इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption इंडियन ऑयल ने गुरुवार को पेट्रोल के दामों में प्रति लीटर 1 रुपए 82 पैसे की बढ़ोतरी करने का ऐलान किया.

पिछले एक साल में आठ से भी ज़्यादा बार हुई बढ़ोत्तरी के बाद भारत में पेट्रोल की कीमत फिर से बढ़ा दी गई है.

भारतीय तेल कंपनी इंडियन ऑयल ने गुरुवार को पेट्रोल के दामों में प्रति लीटर 1 रुपए 82 पैसे की बढ़ोत्तरी करने का एलान किया है.

नई कीमतें गुरूवार आधी रात से लागू हो गई हैं.

इस बीच विपक्षी पार्टियों ने केंद्र में आसीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार की निंदा करते हुए बढे हुए दामों को वापस लेने की गुहार लगाई है.

रॉयटर्स समाचार एजेंसी के मुताबिक़ भारत की एक और बड़ी तेल कंपनी हिंदुस्तान पेट्रोलियम के भी पेट्रोल के कीमतों को बढ़ाने के आसार पक्के बताए जा रहे हैं.

इस बढ़ोतरी के बाद अब दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 68.66 रुपये प्रति लीटर होगी.

ताज़ा बढ़ोतरी के लिए डॉलर की कीमत बढ़ने के चलते तेल कंपनियों को हो रहे घाटे का हवाला दिया गया है.

उधर मुंबई में पेट्रोल की कीमत 71.71 रुपये से बढ़ा कर 73.71 रुपये कर दी गयी है.

जबकि कोलकाता में अब पेट्रोल 70.16 रुपये के बदले 71.98 रुपये प्रति लीटर के भाव पर मिलेगा.

चेन्नई में इसका भाव 70.84 रुपये से बढ़ कर 71.16 रुपये हो गया है और बंगलौर में इसकी कीमत 74.82 रुपये से बढ़ कर 75.64 रुपये हो गई है.

'मध्यरात्रि छल'

पेट्रोल की बढ़ी हुई कीमतों पर प्रतिक्रिया देते हुए प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी ने इसे यूपीए का 'मध्यरात्रि छल' करार दिया है.

पार्टी ने इस बात पर भी ज़ोर दिया है कि आम आदमी देश के 'अर्थशास्त्री' प्रधानमंत्री द्वारा दर्शाए जा रहे 'अभिमान' को भुला नहीं सकेगा.

बीजेपी प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी ने कहा कि देश पहले से ही खाद्य पदार्थों में दर्ज की गई ज़बरदस्त महंगाई की मार झेल रहा था और सरकार ने अब पेट्रोल की कीमतों में इज़ाफा करने का फैसला लिया है.

उन्होंने कहा, "कांग्रेस पार्टी ने आम आदमी को डराने का एक नया तरीका निकाला है. जहाँ कांग्रेस निष्ठुर बनी हुई हैं वहीँ प्रधानमंत्री और उनकी कैबिनेट ने लोगों के साथ धोखा किया है."

दूसरी तरफ़ लेफ़्ट पार्टियों ने भी पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोत्तरी की निंदा करते हुए सरकार को आड़े हाथों लिया है.

कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी ने विभिन्न राज्यों में अपने समर्थकों से इस क़दम का विरोध करने का भी आह्वाहन किया है.

संबंधित समाचार