लोकपाल पर हंगामे की ज़रूरत नहीं:सोनिया

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption सोनिया गांधी का कहना है कि भ्रष्टाचार केवल भाषणों से ही नहीं ख़त्म होगा.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा है कि भ्रष्टाचार को ख़त्म करने के लिए केवल भाषण देना ही काफ़ी नहीं है.

उन्होंने ये भी कहा है कि सरकार एक मज़बूत लोकपाल बिल लाने के लिए प्रतिबद्ध है.

ये बातें सोनिया गांधी के उस भाषण का अंश हैं, जो बुधवार को उत्तराखंड में एक सार्वजनिक रैली में पढ़ा गया.

कुछ महीने पहले विदेश से इलाज करवा कर भारत वापस आने के बाद सोनिया गांधी को अपनी पहली सार्वजनिक सभा में हिस्सा लेना था. लेकिन तबीयत ख़राब होने की वजह से वे रैली में नहीं पहुंच सकीं, इसलिए उनका भाषण पढ़ कर सुनाया गया.

निशाना

इस भाषण में सोनिया गांधी का कहना था, “प्रधानमंत्री ने पहले ही कह दिया है कि सरकार संसद में एक मज़बूत लोकपाल बिल लाने के लिए प्रतिबद्ध है. तो फिर इस बारे में हंगामे या बवाल की क्या ज़रूरत है?”

सोनिया गांधी ने अपने भाषण के ज़रिए लोगों को ये बात भी याद दिलाई कि सूचना के अधिकार का क़ानून उनकी सरकार लाई थी.

कांग्रेस और यूपीए सरकार पिछले कई महीनों से भ्रष्टाचार से निपटने के लिए जनलोकपाल बिल की मांग कर रहे अन्ना हज़ारे और विपक्ष के निशाने पर है.

उत्तराखंड में रैली को संबोधित करने के अलावा सोनिया गांधी के कार्यक्रम में चमोली ज़िले में लंबे समय से टल रही ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना की नींव रखना भी शामिल था.

इस रैली को कांग्रेस अध्यक्ष की ओर से उत्तराखंड में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए अपनी पार्टी के प्रचार अभियान की शुरुआत में देखा जा रहा था. इस साल अगस्त में सोनिया गांधी इलाज के लिए विदेश गई थीं

संबंधित समाचार