तुकाराम की मूर्ति के अनावरण पर राजनीति

मुंबई  श्रृद्धांजलि इमेज कॉपीरइट afp
Image caption मुंबई हमलों के बाद एकमात्र हमलावर अजमल आमिर क़साब को ओंबले ने पकड़ा था

मुंबई हमलों में मारे गए लोगों को शनिवार को श्रद्धांजलि दी गई वहीं अजमल कसाब को धर दबोचने वाले सब- इंसपेक्टर तुकाराम ओंबले की प्रतिमा का अनावरण भी किया गया.

मुंबई में साल 2008 के कई जगहों पर हुए चरमपंथी हमलों में 160 से ज़्यादा लोग मारे गए थे और 250 से ज़्यादा लोग घायल हुए थे.

इन हमलों के दोषी पाए गए एकमात्र जीवित व्यक्ति अजमल आमिर क़साब को तुकाराम ओम्बले ने ही पकड़ा था.लेकिन बाद में वे कसाब की गोली से ही मारे गए थे.

ओम्बले के सीने पर गोली लगी थी लेकिन इससके बावजूद उन्होंने कसाब को अपने मज़बूत हाथों के जकड़ कर रखा था.

ओम्बले को मरणोपरांत अशोक चक्र से भी नवाज़ा जा चुका है. उन्होंने जब कसाब को पकड़ा था तब उनके पास केवल एक डंडा था लेकिन उन्होंने बिना किसी डर के कसाब को दबोच लिया था.

कसाब फिलहाल मुंबई की जेल में बंद है.

मूर्ति के अनवारण पर राजनीति

मुंबई में ओम्बले की मूर्ति का अनावरण कौन करेगा इस पर सत्ताधारी कांग्रेस पार्टा और मुख्य विपक्षी दल शिव सेना में टकराव भी हुआ.

पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यलय की तरफ़ से बयान आया था कि ओमबले की मूर्ति का अनावरण कौन करेगा इसका फ़ैसला गृह मंत्रालय करेगा.

लेकिन शिव सेना ने ये घोषणा कर दी कि इस मूर्ति का अनावरण पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे करेंगे.

बॉम्बे म्यूनिसपल कॉर्पोरेशन पर शिव सेना क़ाबिज़ है. अंतत उद्वव ठाकरे मूर्ति का अनावरण किया.

मूर्ति के अनावरण के दौरान ओंबले की बेटी वैशाली ओम्बले भी मौजूद थी.

संबंधित समाचार