भंवरी देवी कांड में मदेरणा का हाथ: सीबीआई

maderna इमेज कॉपीरइट pti
Image caption मदेरणा इस मामले में अपनी भूमिका से इनकार करते रहे हैं

राजस्थान के भंवरी देवी अपहरण के मामले में सीबीआई ने आरोप पत्र दाख़िल कर दिया है.

आरोप पत्र के अनुसार राजस्थान के बर्खास्त मंत्री महिपाल मदेरणा के आदेश पर सहीराम बिश्नोई ने भंवरी देवी का अपहरण किया और आशंका है कि उसकी हत्या कर दी.

पूर्व मंत्री मदेरणा को शुक्रवार की शाम सीबीआई ने गिरफ़्तार कर लिया है.

मदेरणा स्वीकार कर चुके हैं कि वे भंवरी देवी को जानते थे.

आरोप पत्र

सीबीआई का कहना है कि वर्ष 2005 में विधायक मलखान सिंह बिश्नोई ने भंवरी देवी का परिचय महिपाल सिंह मदेरणा से करवाया था.

लेकिन जुलाई में जब मदेरणा और भंवरी देवी के संबंधों की कथित सीडी सार्वजनिक हो गई तो मदेरणा ने सहीराम से मामले को ठिकाने लगाने को कहा.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार अपने 42 पृष्ठों के आरोप पत्र में सीबीआई ने कहा है कि सहीराम ने सोहन लाल और शहाबुद्दीन के साथ मिलकर पचास लाख रुपए में ये सीडी हासिल करने की योजना बनाई.

शहाबुद्दीन को मदेरणा के एक अमीर मित्र के रूप में मिलवाया गया और बताया गया कि वही पैसा देंगे क्योंकि भंवरी देवी को सहीराम और सोहनलाल पर भरोसा नहीं था.

उन्हें 2.5 लाख रूपए अग्रिम दे दिए गए थे और शेष रकम का भुगतान सितंबर के पहले हफ़्ते में करने का वादा किया गया था.

सीबीआई के अनुसार सोहन लाल ने पहली सितंबर को भंवरी देवी को बिलारा बुलवाया था जिससे कि वह अपने बचा हुआ पैसा और अपनी कार की क़ीमत भी ले सके, जो उसने सोहनलाल को बेच दी थी.

इसके बाद वो भंवरी देवी को कार में कहीं ले जाने लगे जिसका उसने विरोध किया.

आरोप पत्र के अनुसार इस विरोध के बीच ही शहाबुद्दीन और सोहन लाल ने मिलकर भंवरी देवी की हत्या कर दी.

सीबीआई का कहना है कि इसके बाद उन्होंने भंवरी देवी को किसी अज्ञात व्यक्ति के हवाले कर दिया था, जिसके बारे में सिर्फ़ सहीराम को जानकारी है और वो अभी तक फ़रार है.

मदेरणा का हाथ

सीबीआई का कहना है कि सहीराम के पास मिले सिम कार्ड से पता चलता है कि सीडी की ख़बरें आने के बाद 23 से 26 जुलाई के बीच सहीराम ने मदेरणा से 21 बार बात की.

इसी समयावधि में सोहन लाल से मदेरणा की 31 बार बात हुई.

आरोप पत्र के अनुसार 23 जुलाई को एक न्यूज़चैनल में सीडी की ख़बर आने के बाद सहीराम ने भंवरी देवी से भी संपर्क किया था. और 23 से 26 जुलाई के बीच उससे 14 बार बात की थी.

एजेंसी का कहना है कि पहली सितंबर को, जिस दिन भंवरी देवी लापता हुई, सहीराम सुबह से लेकर शाम तक सोहन लाल और शहाबुद्दीन के संपर्क में था.

संबंधित समाचार