अन्ना साल की दस बड़ी खबरों में: टाइम

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption टाइम ने भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन को असाधारम बताया है

अन्ना हज़ारे के भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन को टाइम मैगज़ीन ने साल 2011 की दस सबसे बड़ी खबरों में शामिल किया है.

टाइम की इस सूची में 'अरब क्रांति' और ओसामा बिन लादेन की हत्या साल की बड़ी खबरों में सबसे उपर है.

मैगज़ीन ने राजनीति, मनोरंजन, कारोबार, खेल और पॉपुलर कल्चर यानी लोकप्रिय कला और संस्कृति के विषयों पर चोटी की दस खबरों की सूचियों का संकलन किया है.

विश्व की चोटी की दस खबरों में हजा़रे की भूख हड़ताल की खबर भी है.

पत्रिका ने इस खबर को शामिल करते हुए कहा, "हालांकि इस साल दुनिया में कई जगह विरोध प्रदर्शन हुए लेकिन शायद सबसे असाधारण विरोध भारत में हुआ जहां भ्रष्टाचार के कई मामलों में सरकार को काफ़ी विरोध झेलना पड़ा."

मैगज़ीन ने लिखा है, "हज़ारे की भूख हड़ताल, यहां तक कि उसकी धमकी से भी, भारत के कई बड़े शहरों में लोगों ने प्रदर्शन किए. इससे सरकार पर स्वतंत्र लोकपाल संस्था बनाने का दबाव बढ़ा जो प्रधानमंत्री तक की जांच कर सकता है और भ्रष्ट लोगों को सज़ा दिलवा सकता है."

अरब क्रांति

साल 2011 की बड़ी खबरों में सबसे ऊपर अरब क्रांति रही जो इस साल कई देशों में फैल गई.

पाकिस्तान के एबटाबाद में अमरीकी हमले में ओसामा बिन लादेन का मारा जाना, लीबियाई शासक कर्नल गद्दाफ़ी का मारा जाना और यूरोप का वित्तीय संकट भी इस तालिका में शामिल है.

वहीं साल के सबसे बड़े धार्मिक समाचारों की सूची में सत्य साईं बाबा की मौत की ख़बर भी है.

पत्रिका के अनुसार साईं बाबा भारत के सबसे मशहूर गुरुओं में से एक थे और उनके अंतिम संस्कार में लाखों लोगों ने शिरकत की.

संबंधित समाचार