जनता सिखाएगी सरकार को सबक: अन्ना हज़ारे

अन्ना इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अन्ना दिल्ली के जंतर-मंतर में रविवार को एक दिन का सांकेतिक अनशन करने वाले है.

अन्ना हज़ारे ने कहा है कि स्टैडिंग कमेटी ने कमज़ोर लोकपाल बिल संसद में भेजकर देश के साथ धोखा किया है.

अन्ना हज़ारे जंतर-मंतर पर रविवार को एक दिन के सांकेतिक अनशन के लिए दिल्ली पहुंचे हैं.

मज़बूत लोकपाल की हिमायत करने वाले कार्यकर्ताओं की उपस्थिति में उन्होने अभिषेक मनु सिंघवी के नेतृत्व वाली संसद की स्थाई समिति के लोकपाल विधेयक के मसौदे को बेहद कमज़ोर बताया और कहा कि इससे भ्रष्टाचार घटने के बजाय कई गुना और बढ़ जाएगा.

ग़ौरतलब है कि शुक्रवार को संसद के दोनों सदनों में लोकपाल विधेयक के मसौदे पर स्थाई समिति की रिपोर्ट पेश करने के बाद समिति के अध्यक्ष अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा था कि स्टैडिंग कमेटी की रिपोर्ट में लोकपाल को संवैधानिक दर्जा दिए जाने की सिफ़ारिश की गई है.

'सुझाव नही सुने गए'

विधेयक के मसौदे को कमज़ोर बताते हुए अन्ना हज़ारे ने कहा, ''जन लोकपाल बिल पर स्टैडिंग कमेटी ने विचार किया ही नही. हमारी तरफ़ से दिए गए 34 सुझावों में से उन्होने इक्का-दुक्का ही सुने और केवल एक ही बिंदु पर सहमति जताई, जो है लोकपाल को संवैधानिक दर्जा देने की.''

जंतर मंतर पर रविवार को आयोजित सांकेतिक उपवास से पहले हुई इस प्रेसवार्ता में अरविंद केजरीवाल, शांति भूषण, प्रशांत भूषण और मेधा पाटकर भी शामिल रहे.

अरविंद केजरीवाल ने विधेयक के मसौदे की आलोचना करते हुए कहा, ''स्टैडिंग कमेटी में तीन महीने तक विचार विमर्श करने के बाद सरकार ने कमज़ोर लोकपाल बिल बनाया है. संसद में भेजे गया वर्तमान लोकपाल बिल का स्टैडिंग कमेटी के 30 में से 17 लोगों ने विरोध किया था, फ़िर भी ये बिल आगे भेजा गया.''

केजरीवाल के मुताबिक टीम अन्ना की मांग के बावजूद प्रधानमंत्री, सिटीजन चार्टर, ग्रुप सी कर्मचारियों, जजों और सांसदों को लोकपाल के दायरे बाहर रखा गया है.

अन्ना हज़ारे ने कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी पर भी आरोप लगाया है कि वो नही चाहते कि देश से भ्रष्टाचार मिटे.

उन्होने कहा, ''स्टैडिंग कमेटी मज़बूत लोकपाल बिल बनाने के लिए सहयोग नही कर रही है इसके पीछे सिर्फ राहुल गांधी ही हो सकते है, और कौन है इतना ताकतवर जो ऐसा कर सकता है.''

टीम अन्ना ने सभी राजनीतिक पार्टियों को रविवार को होने वाले अनशन में लोकपाल पर चर्चा करने के लिए न्यौता दिया है.

टीम के सदस्य प्रशांत भूषण ने कहा है कि कांग्रेस को छोड़कर सभी दलों के नेताओ ने चर्चा में शामिल होने की हामी भरी है.

टीम अन्ना ने कांग्रेस को दोबारा पत्र लिखकर चर्चा के लिए बुलाया है.

संबंधित समाचार