चीन की मंशा भारत पर हमला नहीं: मनमोहन सिंह

मनमोहन सिंह इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मनमोहन सिंह ने इस बात पर सहमति जताई है कि चीन की तरफ़ से भारत की सीमावर्ती इलाकों में घुसपैठ की कोशिश की गई है

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस आशंका से इनकार किया है कि चीन भारत पर हमला करने की योजना बना रहा है.

उन्होने कहा कि दोनों देशों की नीति बातचीत से सीमा विवादों को सुलझाने की है.

मनमोहन सिंह ने कहा, ''हमारी सरकार इस सोच पर इत्तेफ़ाक़ नही रखती कि चीन भारत पर हमले की योजना बना रहा है.''

सवाल जवाब सत्र के दौरान मनमोहन सिंह ने लोकसभा को आश्वस्त किया कि चीन से सटी भारत की सीमाओं पर शांति बनी हुई है.

सदन में समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने दावा किया था कि उनके पास जानकारी है कि चीन भारत पर हमला कर सकता है.

मुलायम सिंह यादव का ये भी दावा था कि चीन ने भारतीय सीमा के पास के कई इलाक़ों को हमले के लिए चिन्हित भी किया है.

मुलायम सिंह यादव ने ये भी कहा कि चीन ने ब्रह्मपुत्र नदी के पानी का बहाव भी रोक दिया है.

हालाँकि इसके जवाब में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का कहना था कि उन्हे चीन से आश्वासन मिला है कि चीन ब्रह्मपुत्र नदी के पानी का बहाव नही रोकेगा.

'घुसपैठ की गई'

मनमोहन सिंह ने इस बात पर सहमति भी जताई है कि चीन की तरफ़ से उन सीमावर्ती इलाकों में 'घुसपैठ की कोशिश' की गई है, जिन्हे भारत अपना हिस्सा मानता आया है.

लेकिन भारत के इस दावे से चीन सहमत नही है.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा, ''इस तरह के मामले दोनों देशों के एरिया कमांडर सुलझाते है.''

मनमोहन सिंह ने कहा कि भारत पड़ोसी देश चीन के साथ बातचीत से रिश्ते मज़बूत करने की नीति पर चल रहा है.

उन्होनें कहा कि उनकी सरकार से पहले सत्ता में रही राजग की सरकार की भी यही नीति थी.

सीमा विवादों को सुलझाने के लिए भारत और चीन के अधिकारियों के बीच बातचीत जारी है.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि दोनों देशों के बीच बातचीत साल 2005 में काफ़ी अच्छी रही, हालाँकि बीते कुछ सालों में कुछ खा़स सफलता नही मिल पाई है.

संबंधित समाचार