सचिन को भी मिल सकेगा भारत रत्न

सचिन तेंदुलकर इमेज कॉपीरइट
Image caption लंबे समय से सचिन को भारत रत्न दिए जाने की मांग की जा रही है.

भारत सरकार ने भारत रत्न सम्मान की नियमावली में बदलाव करते हुए सचिन तेंदुलकर और मेजर ध्यानचंद जैसे खिलाड़ियों को भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिए जाने का रास्ता साफ़ कर दिया है.

नागरिक क्षेत्र में अप्रतिम योगदान और प्रतिभा-प्रदर्शन के लिए दिए जाने वाले इस नागरिक सम्मान के दायरे में अब खिलाड़ियों को भी शामिल किया जा सकेगा.

इससे पहले केवल कला, साहित्य, विज्ञान और लोकसेवा के क्षेत्र में ही यह सम्मान दिया जाता था. इसके चलते दूसरे क्षेत्रों में बेहतरीन योगदान देने वाली कई प्रतिभाएँ भारत रत्न से अछूती रह गई थीं.

खेल मंत्री अजय माकन ने पत्र लिखकर गृहमंत्री पी चिदंबरम से कहा था कि भारत रत्न की सूची में ‘खेल’ को भी शामिल किया जाए. हालांकि उन्होंने अपनी तरफ़ से किसी खिलाड़ी के नाम की पैरवी नहीं की है.

सचिन को भारत रत्न?

शुक्रवार को मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि इस अधिसूचना के बाद अब यह प्रधानमंत्री के अधिकार क्षेत्र में है कि वो किन नामों का चुनाव करते हैं.

खेल मंत्री अजय माकन ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ''खेल मंत्रालय और गृह मंत्रालय की पैरवी पर प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से एक अधिसूचना जारी कर भारत रत्न की नियमावली में यह बदलाव किए गए हैं.''

सरकार के इस फ़ैसले पर ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए टेलिकॉम मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा कि अब खेल ही नहीं बल्कि और भी कई क्षेत्रों में काम करने वाली विशिष्ट प्रतिभाओं को सम्मान दिया जा सकेगा.

सचिन को भारत रत्न दिए जाने के सवाल पर कांग्रेस सांसद राजीव शुक्ला ने कहा कि सचिन हर मायने में ख़ुद को भारत का रत्न साबित कर चुके हैं लेकिन फिर भी औपचारिक रुप से ये सम्मान उन्हें मिलना चाहिए.

संबंधित समाचार