उत्तर भारत में शीतलहर से 26 लोगों की मौत

ठंड में हाथ सेंकते लोग
Image caption उत्तर भारत में हर साल ठंड से हज़ारों लोगों की मौत होती है.

उत्तर भारत में शीतलहर से कम से कम 26 लोगों की मौत हो गई है.

मीडिया में आ रही ख़बरों के मुताबिक़ मरने वालों में ज़्यादातर लोग उत्तर प्रदेश के हैं.

हर साल भारत में अत्यधिक ठंड से निपटने के लिए इंतज़ाम न होने की वजह से हज़ारों लोगों की मौत होती है. इनमें अधिकतर बेघर और बुज़ुर्ग लोग होते हैं.

पिछले सप्ताह उच्चतम न्यायालय ने सभी राज्यों को आदेश दिया था कि वे इन सर्दियों में बेघर लोगों के लिए रैनबसेरों का इंतज़ाम करें.

उत्तरी राज्यों में अत्यधिक ठंड का सबसे ज़्यादा असर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में होता है.

अस्त-व्यस्त जीवन

इस बीच घने कोहरे और शीतलहर से उत्तर भारत में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर में तापमान 2.2 डिग्री तक गिर गया.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में तापमान पांच डिग्री पहुंच गया और कोहरे की वजह से कई उड़ानों पर असर पड़ा है और कई ट्रेनें भी निर्धारित समय से देर से चल रही हैं.

ऐसी ख़बरें हैं कि बिहार में शीतलहर की वजह से 25 दिसंबर तक स्कूल बंद कर दिए गए हैं.

जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में तापमान 2.8 डिग्री तक गिरने से पाइपों में पानी जम गया है.

पिछले साल उत्तरी भारत में शीतलहर में कई लोगों की मौत हो गई थी, स्कूल बंद हो गए थे और उड़ानें बाधित हो गई थीं. बाक़ी देश को कश्मीर से जोड़ने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग भी बर्फ़ पड़ने की वजह से कुछ समय तक बंद कर दिया गया था.

संबंधित समाचार