उत्तर भारत में शीतलहर जारी, 48 की मौत

दिल्ली कोहरा इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption दिल्ली में सोमवार को घना कोहरा छाया रहा

पिछले लगभग दस दिनों से उत्तर भारत में जारी शीतलहर के कारण कम से कम 48 लोगों की मौत हो गई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में अब तक 26 लोगों की मौत हो चुकी है.

बीबीसी के बिहार संवाददाता मणिकांत ठाकुर ने बताया कि बिहार में अब तक 22 लोग शीतलहर की चपेट में आकर जान गँवा चुके हैं.

उत्तरी-पूर्वी मध्य प्रदेश के ग्वालियर, उमरिया, दतिया, रीवा और मंडला में रविवार को तापमान सामान्य से पांच से छह डिग्री कम दर्ज किया गया.

दिल्ली

दिल्ली में सोमवार सुबह से ही शहर के कई हिस्सों में घना कोहरा छाया हुआ है. यहाँ पचास मीटर से अधिक दूरी में कुछ देख पाना कठिन था.

मौसम विभाग के निदेशक बीपी यादव का कहना है कि कोहरे की स्थिति आने वाले दो-तीन और बनी रहेगी.

हालांकि उनका कहना है कि दिल्ली में अभी तक भारी ठंड नहीं पड़ी है और वो स्थिति 23 दिसंबर के बाद बन सकती है.

बीपी यादव ने कहा, "कोहरे की वजह से रात और सुबह के समय का तापमान कुछ ऊपर जाएगा लेकिन चूंकि दिन में धूप नहीं निकलेगी तो इसके कारण ठंड की स्थिति बनी रहेगी." हर साल भारत में अत्यधिक ठंड से निपटने के लिए इंतज़ाम न होने की वजह से हज़ारों लोगों की मौत होती है. इनमें अधिकतर बेघर और बुज़ुर्ग लोग होते हैं.

रैनबसेरों का इंतज़ाम

पिछले सप्ताह उच्चतम न्यायालय ने सभी राज्यों को आदेश दिया था कि वे इन सर्दियों में बेघर लोगों के लिए रैनबसेरों का इंतज़ाम करें.

उत्तरी राज्यों में अत्यधिक ठंड का सबसे ज़्यादा असर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में होता है.

इस बीच घने कोहरे और शीतलहर से उत्तर भारत में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर में तापमान 2.2 डिग्री तक गिर गया.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में तापमान पांच डिग्री पहुंच गया और कोहरे की वजह से कई उड़ानों पर असर पड़ा है और कई ट्रेनें भी निर्धारित समय से देर से चल रही हैं.

हालांकि दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के एक अधिकारी का कहना था कि उड़ानों में देरी का मुख्य कारण उत्तरी इलाक़ों से उड़ान भरने वाले विमानों के आगमन में हो रही देरी है.

लेकिन अभी तक कोई भी हवाई सेवा रद्द नहीं की गई है.

ख़बरें हैं कि बिहार में शीतलहर की वजह से 25 दिसंबर तक स्कूल बंद कर दिए गए हैं.

बिहार में सबसे अधिक सर्दी अब तक गया में दर्ज की गई है.

बिहरा आपदा प्रबंधन के सचिव व्यासजी ने बीबीसी संवाददाता मणिकांत ठाकुर को बताया है कि सरकार ने पिछले हप्तों में शहरी और अद्ध-शहरी इलाकों में ढ़ेढ़ हज़ार से ज़्यादा स्थानों पर अलाव का इंतज़ाम करवाया है.

जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में तापमान 2.8 डिग्री तक गिरने से पाइपों में पानी जम गया है.

पिछले साल उत्तरी भारत में शीतलहर में कई लोगों की मौत हो गई थी, स्कूल बंद हो गए थे और उड़ानें बाधित हो गई थीं.

बाक़ी देश को कश्मीर से जोड़ने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग भी बर्फ़ पड़ने की वजह से कुछ समय तक बंद कर दिया गया था.

संबंधित समाचार