अन्ना से दो-दो हाथ के लिए तैयार सोनिया

कांग्रेस अध्यक्ष इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि विपक्ष सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहा है.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा है कि वो लोकपाल और महिला आरक्षण बिल के लिए लड़ेंगी. सोनिया गांधी ने ये बातें कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में कही.

ग़ौरतलब है कि कैबिनेट ने मंगलवार रात को लोकपाल बिल का मसौदा पास किया था, लेकिन टीम अन्ना ने इस मसौदे को ये कहते हुए रद्द कर दिया कि ये प्रभावकारी नहीं है.

सोनिया गांधी ने भाजपा की भी निंदा की औऱ कहा कि पार्टी अब भी 2004 और 2009 की चुनावी हार से समझौता नहीं कर पाई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ सोनिया गांधी ने कहा, "मैं लोकपाल और महिला आरक्षण मामले पर लडूँगी. इस मामले में मुझे हार का कोई कारण नज़र नहीं आता. भ्रष्टाचार से नहीं निपट पाने के लिए हमारी आलोचना हो रही है और हम पर हमले किए जा रहे हैं. ये दुर्भावनापूर्ण ग़लत जानकारी जान-बूझकर फैलाई जा रही है."

सोनिया गांधी ने कहा भ्रष्टाचार से निपटने के लिए जल्द ही तीन विधेयकों को पास किया जाएगा.

मक़सद

इन विधेयकों का मक़सद है कि न्यायपालिका को ज़्यादा ज़िम्मेदार बनाया जाए, विदेशी कंपनियाँ भारतीय अधिकारियों को घूस नहीं दे पाएँ और सच्चाई को सामने लाने वाले व्हिसलब्लोअर की सुरक्षा हो सके.

उधर अन्ना हज़ारे ने लोकपाल बिल को बेहद कमज़ोर बताया. उन्होंने कहा, “ये मसौदा भ्रष्ट मंत्रियों को संभालने का तरीका भर है. उन्होंने सीबीआई को लोकपाल के दायरे से बाहर रखा है.”

अन्ना ने सिटिज़ंस चार्टर को भी लोकपाल से बाहर रखे जाने की आलोचना की. इस बिल को मंगलवार को संसद में पेश किया गया था.

उधर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि विपक्ष सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहा है.

उन्होंने कहा, "हमें उन शक्तियों से लड़ना है, जो हमें अस्थिर करना चाह रही हैं और उन्होंने 2004 का चुनावी फ़ैसला अभी तक स्वीकार नहीं किया है. ये शक्तियाँ 2009 के चुनावी फ़ैसले से समझौता नहीं कर पाई हैं. विपक्ष शोर मचा सकता है, लेकिन वो ये अवसरवादी है. वो बाधा डालने वाली राजनीति कर रहे हैं, जिसके कारण तर्क और उत्कृष्टता खो जाती है."

गांधी ने कहा कि सरकार ने कभी भी किसी भी मुद्दे पर बहस से इनकार नहीं किया है. उन्होंने कहा कि भाजपा का एकमात्र उद्देश्य वैधानिक एजेंडे को चलने नहीं देना है.

खाद्य सुरक्षा बिल पर सोनिया गांधी ने कहा कि हमें इस पर काम करना चाहिए क्योंकि इससे ढेर सारे लोगों को भूख और कुपोषण से बचाया जा सकेगा. इस बिल को इसी सत्र में पेश किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि उन्हें पता है कि खाद्य सुरक्षा बिल को लेकर कुछ चिंताएँ हैं लेकिन ये बिल पर हुआ फ़ैसला सही मायने में ऐतिहासिक है.

सोनिया गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से कहा है कि वो खाद्य सुरक्षा बिल को लोगों तक ले जाएँ और इसे अपने राजनीतिक प्रचार का हिस्सा बनाएँ.

संबंधित समाचार