दिनभर क्या-क्या हुआ

 मंगलवार, 27 दिसंबर, 2011 को 08:57 IST तक के समाचार

बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी. बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी.
यह अपने आप अपडेट होता रहेगा.

ताज़ा पेज देखें

22:00: लोकसभा में लोकपाल और व्हिसलब्लोअर विधेयक पर संयुक्त बहस ख़त्म हो गई है.

प्रणब मुखर्जी ने कहा कि विपक्ष की ओर से उठाए गए सभी मुद्दों को संज्ञान में लेते हुए सरकार लोकपाल विधेयक में कुल दस संशोधन लाएगी.

इसके अलावा लोकसभा के नेता प्रणब मुखर्जी ने कहा कि सशस्त्र बलों को लोकपाल के दायरे से बाहर रखने के लिए भी संशोधन लाया जाएगा.

प्रणब मुखर्जी ने कहा कि इसके बावजूद सरकार लोकपाल विधेयक में संशोधन करने को तैयार है और लोकायुक्त प्रावधान को बदला जाएगा.

लोकायुक्त को लोकपाल के साथ एक विधेयक में लाए जाने के मुद्दे पर प्रणब मुखर्जी ने कहा कि संविधान इसकी इजाज़त देता है और ये संघीय ढांचे को प्रभावित नहीं करता.

प्रणब मुखर्जी ने कहा कि विधेयक का ये प्रारूप सबसे अच्छा ना भी हो लेकिन विपक्ष और नागरिक समाज के कई सुझावों को मद्देनज़र रखकर बनाया गया है.

21:30: प्रणब मुखर्जी के मुताबिक इन सभी और अन्य विवादास्पद मुद्दों पर चर्चा के लिए ही लोकपाल विधेयक को स्थायी समिति के पास भेजा गया.

ये मुद्दे थे - लोकपाल और लोकायुक्त को साथ लाना, सिटिज़न चार्टर को लोकपाल के तहत लाना, ग्रुप सी और डी के सरकारी कर्मचारियों को लोकपाल के तहत लाना.

प्रणब मुखर्जी ने बताया कि अन्ना हज़ारे ने अपना पिछला अनशन तभी तोड़ा था जब उन्हें तीन मुद्दों पर चर्चा किए जाने का आश्वासन दिया गया था.

लोकसभा के नेता प्रणब मुखर्जी अब सदन के सदस्यों को संबोधित कर रहे हैं.

कीर्ति झा आज़ाद ने व्हिसलब्लोअर विधेयक पर अलग से लंबी बहस की मांग की. आज लोकसभा में लोकपाल और व्हिसलब्लोअर विधेयक पर संयुक्त बहस की जा रही है.

21:00: भारतीय जनता पार्टी के नेता कीर्ति झा आज़ाद ने व्हिसलब्लोअर विधेयक के बारे में सदन में कहा कि इसमें व्हिसलब्लोअर यानि जानकारी देने वाले की सुरक्षा के बारे में कोई प्रावधान नहीं है.

संसद का मौजूदा शीतकालीन सत्र पिछले सप्ताह ही समाप्त होने वाला था लेकिन लोकपाल बिल के लिए इस सत्र को ख़ासतौर पर तीन दिनों के लिए बढ़ाया गया है.

20:30: ग़ौरतलब है कि लोकसभा में लोकपाल विधेयक पर बहस जारी है. आज लोकपाल के अलावा व्हिसलब्लोअर विधेयक पर भी मतदान होना है.

लोकपाल में अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षण पर ओवेसी ने कहा कि इससे फ़ायदा नहीं होगा, बल्कि उनके समुदाय के लिए शिक्षा और रोज़गार के मौके ज़्यादा लाभकारी होगा.

एआईएमआईएम के सासंद असदुद्दीन ओवेसी ने कहा कि लोकपाल विधेयक पर संसद में असहमति जग-ज़ाहिर हो रही है.

20:00: लोकपाल की बहस में अपना मत रखते हुए निर्दलीय सांसद इंदरसिंह नामधारी ने कहा कि लोकपाल की मुहिम छेड़ने में अन्ना हज़ारे का कोई निजी स्वार्थ नहीं है और इस जज़्बे की इज़्ज़त करनी चाहिए.

'दिन भर' कार्यक्रम में पत्रकार प्रदीप सिंह - टीम अन्ना को राजनीतिक दलों पर भरोसा नहीं रह गया है और उन्हें लगता है कि अगर सरकार पर दबाव नहीं रहा तो वे कुछ नहीं करेंगे.

वहीं बीबीसी हिंदी के कार्यक्रम 'दिन भर' में वरिष्ठ पत्रकार प्रदीप सिंह ने कहा कि देश का राजनीतिक प्रतिष्ठान भ्रष्टाचार से लड़ना नहीं बल्कि सिर्फ़ लड़ते हुए दिखना चाहता है.

शशि थरूर ने कहा कि पार्टियों में असहमति के बावजूद लोकपाल क़ानून बनने दिया जाना चाहिए ताकि उस अनुभव से कुछ बेहतर किया जा सके.

उत्तराखंड के लोकायुक्त विधेयक के बारे में उन्होंने कहा कि उसके तहत भ्रष्टाचार के मामले में मुख्यमंत्री के खिलाफ कदम उठाना केन्द्रीय लोकपाल में प्रधानमंत्री के ख़िलाफ़ कदम उठाने से भी मुश्किल है.

19:30: विपक्ष की ओर से दिए गए भाषणों के बारे में शशि थरूर ने कहा कि इस चर्चा में मीन-मेख निकालने की कोशिश ज़्यादा की गई है.

शशि थरूर ने कहा कि सदन के सदस्यों को सरकार के इस विधेयक को लाने की अहमियत कम नहीं आंकनी चाहिए.

कांग्रेस पार्टी के नेता शशि थरूर अब सदन के सदस्यों को संबोधित कर रहे हैं.

यशवंत सिन्हा ने कहा कि विपक्षी पार्टियां तो अलग, कांग्रेस के सहयोगी दलों ने भी आज की बहस में सरकार के साथ सहमति नहीं दिखाई.

यशवंत सिन्हा ने कहा कि ये दंतहीन लोकपाल है, इसकी प्रक्रिया और व्यवस्था बहुत जटिल है, इसलिए इसके मौजूदा स्वरूप में भाजपा इसका समर्थन नहीं करती.

19:00: संघीय व्यवस्था और अल्पसंख्यकों के आरक्षण का मुद्दा लोकपाल के नए विधेयक में लाने के बारे में यशवंत सिन्हा ने कहा कि सरकार दरअसल खुद ही विधेयक पारित नहीं करवाना चाहती इसलिए विवादास्पद मुद्दे छेड़ रही है.

प्रधानमंत्री के भाषण की ओर इशारा करते हुए यशवंत सिन्हा ने कहा कि सरकार की मंशा आम सहमति बनाने की नहीं है.

नेताओं की भ्रष्ट छवि के बारे में यशवंत सिन्हा ने कहा कि सांसद चुने जाना बेहद मुश्किल है और उसकी ज़िम्मेदारी निभाना भी आसान नहीं है.

18:45: भारतीय जनता पार्टी के नेता यशवंत सिन्हा अब लोकसभा के सदस्यों को संबोधित कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि लोकपाल विधेयक पर सभी पार्टियों के सुझाव बिना किसी दबाव के देखे जाने चाहिएं और मौजूदा विधेयक को जल्दबाज़ी में पारित नहीं किया जाना चाहिए.

लालू प्रसाद यादव ने कहा कि अनशन के ज़रिए पहले लोकपाल और फिर 'राइट टू रिजेक्ट' और 'राइट टू रिकॉल' को लाने का दबाव बनाया जाएगा.

सीबीआई को लोकपाल के तहत लाए जाने का विरोध करते हुए लालू प्रसाद यादव ने कहा कि मौजूदा तंत्र को छेड़ना सही नहीं है, साथ ही सिर्फ ऐसा भर करने से अनशन का दबाव ख़त्म नहीं होगा.

लालू प्रसाद यादव ने कहा कि लोकपाल विधेयक को संशोधन के लिए दोबारा स्थायी समिति के पास भेजा जाना चाहिए.

राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू प्रसाद यादव अब लोकपाल की बहस में अपनी पार्टी का पक्ष रख रहे हैं.

18:00: गुरुदास दासगुप्ता ने कहा कि लोकपाल विधेयक में संशोधन कर निजी कंपनियों को लोकपाल के तहत लाना चाहिए.

गुरुदास दासगुप्ता ने कहा कि लोकपाल विधेयक भ्रष्टाचार से निपटने की सिर्फ सतही कोशिश भर ही है.

उन्होंने प्रधानमंत्री के वक्तव्य में संघीय व्यवस्था को भ्रष्टाचार के रास्ते में आने की बात की आलोचना की.

अब सीपीआई नेता गुरुदास दासगुप्ता लोकसभा के सदस्यों को संबोधित कर रहे हैं.

राष्ट्रीय लोक दल के नेता जयंत चौधरी ने बहस में जुड़ते हुए कहा कि वो प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का समर्थन करते हैं.

17:30: तेलुगु देसम पार्टी के नेता नामा नागेश्वर राव ने बहस में अपनी पार्टी का पक्ष रखते हुए कहा कि सीबीआई को लोकपाल के तहत लाना चाहिए या उसे पूरी तरह स्वायत्त बना देना चाहिए.

बनर्जी ने कहा कि अनशन के दबाव की वजह से विधेयक लाना संसद के बारे में बहुत ग़लत संदेश देता है.

कल्याण बनर्जी ने कहा कि लोकपाल का चुनाव संसद के दोनों सदनों के द्वारा होना चाहिए और उसकी जवाबदेही तय होनी चाहिए.

कल्याण बनर्जी ने लोकपाल की चयन प्रक्रिया पर सवाल उठाया और लोकपाल के अधिकारों पर चिंता ज़ाहिर की.

तृणमूल कांग्रेस के नेता कल्याण बनर्जी अब लोकसभा में जारी बहस में लोकपाल विधेयक पर अपनी पार्टी का पक्ष रख रहे हैं.

17:00: प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि भ्रष्टाचार से निपटने की कोशिश में हमें ये नहीं भूलना चाहिए कि इस प्रक्रिया में मौजूदा व्यवस्था के तंत्र ही कमज़ोर ना हो जाएं.

उन्होंने कहा कि सरकार का मत यही है कि सीबीआई को लोकपाल के तहत काम करने नहीं दिया जा सकता क्योंकि ये संसद के दायरे से बाहर होगा.

सीबीआई के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि इस देश में हर इकाई को संविधान के तहत ही काम करना होगा और संसद के प्रति जवाबदेह रहना होगा.

प्रधानमंत्री के मुताबिक केन्द्र की कई योजनाएं राज्यों द्वारा ही लागू की जाती हैं इसलिए इनमें भ्रष्टाचार रोकने के लिए दोनों स्तरों को जोड़ कर देखना ज़रूरी है.

प्रधानमंत्री ने सभी सांसदों से अपील की कि वे अपनी पार्टियों के हितों के बारे में नहीं ब्लकि देश के हित में सोचें और लोकपाल विधेयक को पारित करने में मदद करें.

16:50: संघीय व्यवस्था और लोकायुक्तों के बारे में बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार राज्यों और केन्द्र के लिए अलग नहीं है.

उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार से निपटने के लिए यूपीए सरकार कई विधेयक लेकर आ रही है जिनमें न्यायपालिका में सुधार शामिल है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि यूपीए सरकार सूचना के अधिकार, महात्मा कांधी रोज़गार योजना, शिक्षा का अधिकार और खाद्य सुरक्षा अधिकार जैसे क़ानूनों से जनता के हित में ही काम करती रही है.

जनता के गुस्से के मद्देनज़र प्रधानमंत्री ने कहा कि इस विधेयक को इसी शक्ल में पारित किया जाना चाहिए.

प्रधानमंत्री ने कहा कि जनता बहुत उम्मीद से सदन की चर्चा को देख रही है और उनके मुताबिक लोकपाल विधेयक एक बेहतरीन मसौदा है.

16:41: अब प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह लोकसभा को संबोधित कर रहे हैं.

मीडिया में नेताओं की आलोचना के बारे में सुप्रिया सुले ने कहा कि राजनेताओं को लोकतांत्रिक तरीके से अपने मतभेद ख़त्म कर जनता के सामने अपनी छवि सही करनी चाहिए.

सुप्रिया सुले ने कहा कि लोकपाल भ्रष्टाचार से निपटने की ओर पहला कदम है और सदन में इस बारे में सभी पार्टियों में उम्मीद और सहमति होनी चाहिए.

16:30: नैश्नलिस्ट कांग्रेस पार्टी नेता सुप्रिया सुले अब लोकपाल की बहस में अपनी पार्टी का पक्ष रख रही हैं.

बहस में शामिल होते हुए शिव सेना के नेता अनंत गंगाराम गीते ने कहा कि प्रधानमंत्री पद को लोकपाल के तहत नहीं लाना चाहिए.

वहीं लोकसभा में बीजू जनता दल के नेता भर्त्रुहरी महताब ने लोकपाल की बहस में अपनी पार्टी का पक्ष रखते हुए कहा कि संघीय व्यवस्था के मुताबिक लोकायुक्त और लोकपाल को अलग रखना चाहिए.

शांति भूषण ने कहा कि सीबीआई को सरकार के नियंत्रण से स्वतंत्र करने का तरीका उसे लोकपाल के तहत लाना ही है.

16:00: वहीं दिल्ली के रामलीला मैदान में अब अन्ना हज़ारे के सहयोगी और वरिष्ठ वकील शांति भूषण समर्थकों को संबोधित कर रहे हैं.

इलंगोवन ने कहा कि भ्रष्टाचार ख़त्म करने के लिए लोकपाल ही नहीं बल्कि चुनाव प्रक्रिया में भी सुधार लाने होंगे.

टीकेएस इलंगोवन ने कहा कि लोकपाल की जवाबदेही तय होनी चाहिए.

15:45: उधर लोकसभा में लोकपाल पर बहस में अपना पक्ष रखते हुए डीएमके नेता टीकेएस इलंगोवन ने कहा कि निजी कंपनियों को भी लोकपाल के दायरे में होना चाहिए.

अनुपम खेर ने कहा कि भ्रष्टाचार विरोधी क़ानून लोकपाल लाने की इस मुहिम ने देश के युवाओं को एकजुट किया है.

मुंबई के एमएमआरडीए मैदान में अब अन्ना हज़ारे के समर्थन में अभिनेता अनुपम खेर समर्थकों को संबोधित कर रहे हैं.

रामलीला मैदान में बड़ी स्क्रीन लगाईं गई हैं जिनपर मुंबई के एमएमआरडीए मैदान का सीधा प्रसारण दिखाया जा रहा है.

15:30: वहीं राजधानी दिल्ली के रामलीला मैदान से बीबीसी संवाददाता शालू यादव के मुताबिक वहां सुबह जमी क़रीब 150 समर्थकों की भीड़ अब बढ़कर क़रीब 500 लोगों की हो गई है.

'राइट टू रिजेक्ट' यानि किसी चुनाव में मतदान के समय मतदाता के पास उम्मीदवारों की मौजूदा सूचि में से किसी को भी ना चुनने का विकल्प होना.

उधर मुंबई में अपने समर्थकों को संबोधित करने हुए अन्ना हज़ारे ने कहा कि सशक्त लोकपाल लाने के बाद वो 'राइट टू रिजेक्ट' की मांग करेंगे.

शरद यादव के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट में लोकपाल की वजह से इतने नए मामले आ जाएंगे जिनका समय रहते निपटारा नहीं हो पाएगा.

शरद यादव ने कहा कि सीबीआई का राजनीतिक इस्तेमाल किया गया है इसलिए लोकपाल बनाने से पहले सीबीआई को निष्पक्ष और स्वतंत्र बनाने की कोशिश की जानी चाहिए.

वहीं लोकसभा में अपने संबोधन में जेडी(यू) नेता शरद यादव ने कहा कि लोकपाल विधेयक प्रभावी नहीं है.

अन्ना हज़ारे ने कहा कि जिन पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हैं वो वहां जाकर सरकार के ख़िलाफ़ प्रचार करेंगे.

अन्ना हज़ारे ने कहा कि वो 25 वर्षों से भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ संघर्ष कर रहे हैं.

15:00: उधर मुंबई में अनशन शुरू करने के बाद सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हज़ारे पहली बार अपने समर्थकों को संबोधित कर रहे हैं.

शरद यादव ने कहा कि भ्रष्टाचार की वजह से जनता में बहुत गुस्सा है.

अब जनता दल युनाइटिड के नेता शरद यादव लोकपाल की बहस में अपना पक्ष रख रहे हैं.

चौहान ने कहा कि लोकपाल में अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षण होना चाहिए.

वहीं लोकसभा में बहुजन समाजवादी पार्टी के दारा सिंह चौहान अपना मत रखते हुए कह रहे हैं कि सीबीआई को लोकपाल के दायरे में होना चाहिए.

मेधा पाटकर ने कहा कि लोकपाल विधेयक में न्यायपालिका को लोकपाल के तहत लाने का प्रावधान होना चाहिए.

उधर सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर मुंबई के एमएमआरडीए मैदान में अब जनता को संबोधित कर रही हैं.

यादव के मुताबिक लोकपाल विधेयक में संशोधन किया जाना चाहिए ताकि भ्रष्टाचार की जांच अदालत के देखरेख के तहत किए जाने का प्रावधान हो.

मुलायम सिंह यादव के मुताबिक लोकपाल विधेयक ने जनता को निराश किया है.

14:20: लोकसभा में अब समाजवादी पार्टी नेता मुलायम सिंह यादव लोकपाल पर बहस में अपना मत रख रहे हैं.

केजरीवाल ने कहा कि इन तमाम सुझावों के मद्देनज़र लोकपाल का एक संशोधित विधेयक संसद में लाया जाना चाहिए.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जनलोकपाल में भ्रष्टाचार की अधिकतक सज़ा आजीवन कारावास प्रस्तावित की गई थी लेकिन इसे सात वर्ष तक सीमित रखा गया है.

केजरीवाल ने कहा कि कंपनियों के भ्रष्टाचार के बारे में उनके सुझावों में से कोई भी सरकारी विधेयक में नहीं माना गया है.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सीबीआई को सरकार से स्वतंत्र कर लोकपाल के तहत रखा जाना चाहिए.

केजरीवाल ने विधेयक में ग्रुप तीन और चार के सरकारी कर्मचारियों को सीधे लोकपाल के तहत नहीं रखे जाने की आलोचना की.

उन्होंने इस विधेयक को फ़ौरन वापस लाने की मांग की.

केजरीवाल के मुताबिक लोकपाल विधेयक भ्रष्टाचारियों को पकड़ने की बजाय बचाने के लिए बनाया गया है.

केजरीवाल का कहना है कि सरकार ने पूरे देश और संसद के साथ भी धोखा किया है.

14:00: अरविंद केजरीवाल के अनुसार सरकार ने अन्ना के साथ हमेशा धोखा किया है.

इस समय अन्ना के सहयोगी अरविंद केजरीवाल लोगों को संबोधित कर रहें हैं.

सुबह में तो बहुत कम लोग मैदान में आए थे लेकिन अब धीरे-धीरे लोगों की तादाद में थोड़ा इजाफ़ा हो रहा है.

उधर मुंबई के एमएमआरडीए मैदान में अन्ना अनशन पर बैठे हुए हैं.

सिब्बल ने आरोप लगाया कि पिछले पूरे एक साल में सुषमा स्वराज ने नेता प्रतिपक्ष की हैसियत से लोकपाल के मुद्दे पर कोई भी बेहतर सुझाव नहीं दिए.

नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज की कड़ी आलोचना करते हुए सिब्बल ने कहा कि सुषमा स्वराज एक बेहतरीन वक्ता हैं लेकिन उनकी विचारधारा सिर्फ़ और सिर्फ़ विनाशकारी है.

सीबीआई  में अधिकारियों की नियुक्ति के बारे में सिब्बल ने कहा कि इसका अधिकार सीबीआई निदेशक के पास पहले भी था और आगे भी रहेगा. उसे किसी  भी हालत में बदला नहीं जाएगा.

13:30: सिब्बल ने बीजेपी को चुनौती देते हुए कहा कि उन्हें सदन में घोषणा करनी चाहिए कि जहां भी बीजेपी की सरकार है वहां अगले दो महीने में वो एक सशक्त लोकायुक्त बिल पास करेगी.

सिब्बल ने कहा कि राजनीति अपनी जगह है लेकिन सरकार संविधान और लोकतांत्रिक प्रणाली को कमज़ोर करने की इजाज़त नही दे सकती.

सिब्बल ने कहा कि सरकार ये नहीं चाहती कि ऐसा लोकपाल बने जो किसी को भी जवाबदेह ना हो.

लोकपाल समिति में आरक्षण के प्रावधानों की ज़ोरदार वकालत करते हुए कपिल सिब्बल ने कहा कि क्या बीजेपी का कहना ये है कि जहां प्रधानमंत्री, लोकसभा अध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष और मुख्य न्यायाधीश होंगे वहां किसी ग़लत महिला या अल्पसंख्यक की नियुक्ति हो सकती है.

लोकपाल समिति में आरक्षण के मुद्दे पर बोलते हुए कपिल सिब्बल ने कहा कि भाजपा नहीं चाहती कि 16 करोड़ अल्पसंख्यकों में से किसी एक को भी लोकपाल समिति में जगह मिले.

मुंबई और दिल्ली में अन्ना के समर्थकों की तस्वीरें देखने के लिए क्लिक करें.

सिब्बल के अनुसार जब उस समय ये तय हुआ था कि लोकायुक्त बनाया जाएगा तो फिर आज बीजेपी कैसे कह सकती है कि मौजूदा लोकपाल बिल देश के संघीय ढांचे पर प्रहार है.

13:00: सिब्बल ने कहा कि अगस्त में संसद में जो प्रस्ताव पारित हुआ था उसमें निचले स्तर के सरकारी नौकर, लोकायुक्त और सिटिज़ेन्स् चार्टर को लोकपाल के अंदर शामिल किए जाने की बात कही गई थी.

सिब्बल ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि बीजेपी केंद्र में तो लोकपाल लाना चाहती है लेकिन भाजपा शासित राज्यों में लोकायुक्त नहीं लाना चाहती है.

सिब्बल ने आरोप लगाया कि विपक्ष और ख़ासकर बीजेपी चाहती ही नहीं कि लोकपाल बिल पास हो.

12:45: सिब्बल ने कहा कि अगर लोकपाल पारित हो जाता है तो ये इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा.

सुषमा स्वराज के बाद सरकार की तरफ़ से बोलने के लिए केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री कपिल सिब्बल बोलने के लिए खड़े हुए हैं.

सुषमा ने कहा कि सरकार या तो बीजेपी के ज़रिए सुझाए गए संशोधनों को मान ले या फिर मौजूदा बिल वापस ले.

सुषमा स्वराज ने कहा कि सरकार को पता ही नहीं है कि वो चाहती क्या है.

12:30: लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज लोकपाल बिल की ख़ामियां गिना रहीं हैं उधर मुंबई में अन्ना हज़ारे एमएमआरडीए मैदान पहुंच गए हैं.

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने बीच में उठकर कहा कि बीजेपी की राजनीति देश को बांटने का काम कर रही है.

सुषमा स्वराज ने कहा कि धर्म आधारित आरक्षण से सरकार देश में दोबारा बंटवारे की बीज बो रही है.

सुषमा स्वराज ने कहा कि मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री इसलिए नहीं हैं क्योंकि वो अल्पसंख्यक वर्ग से आते हैं बल्कि इसलिए क्योंकि इस पद के लिए वो सर्वश्रेष्ठ भारतीय हैं.

सुषमा स्वराज ने ये भी कहा कि संवैधानिक संस्थाओं में तो आरक्षण का सवाल ही पैदा नहीं होता.

सुषमा के अनुसार संविधान धर्म आधारित आरक्षण की इजाज़त नहीं देता है.

सुषमा स्वराज ने लोकपाल समिति में आरक्षण के प्रावधानों का भी विरोध किया.

12:00: सुषमा स्वराज ने  बीजेपी शासित प्रदेश उत्तराखंड के लोकायुक्त बिल की तारीफ़ करते हुए कहा कि वो बिल भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए बेहतरीन बिल है.

सुषमा के अनुसार मौजूदा लोकपाल बिल देश के संघीय ढांचे पर प्रहार है.

सुषमा ने कहा कि ये बिल कई अहम क़ायदों का उल्लंघन करता है.

सुषमा स्वराज ने लोकपाल बिल की आलोचना करते हुए कहा कि मौजूदा बिल भ्रष्टाचार से लड़ने की तमाम उम्मीदों पर पानी फेरता है.

नारायणसामी के शुरूआती बयान के बाद लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज ने बोलना शुरू कर दिया है.

नारायणसामी ने लोकसभा में लोकपाल बिल के अलावा संविधान संशोधन बिल और व्हिसिल ब्लोअर बिल पेश किए.

नारायणसामी ने लोकपाल बिल के ख़ास-ख़ास प्रावधानों का ज़िक्र किया जिनमें लोकपाल समिति में एससी-एसटी, पिछड़े, महिला और अल्पसंख्यक वर्ग के लिए आरक्षण शामिल हैं.

लेकिन उस दिन बहस नहीं हो पाई थी और बहस के लिए 27-29 दिसंबर की तारीख़ तय की गई थी.

सरकार ने 22 दिसंबर को लोकसभा में लोकपाल बिल पेश किया था.

11:25: लोकसभा में लोकपाल बिल पर बहस शुरू हो गई है. बहस की शुरूआत संसदीय कार्य मंत्री नारायणसामी ने की है.

उसी तरह मुंबई के एमएमआरडीए मैदान से भी मिल रही ख़बरों के मुताबिक़ वहां भी बहुत कम लोग हैं. एक अनुमान के अनुसार इस समय वहां 500 के आस-पास लोग मौजूद हैं.

दिल्ली के रामलीला मैदान में मौजूद बीबीसी संवाददाता शालू यादव का कहना है कि वहां शांति भूषण और प्रशांत भूषण अनशन पर बैठे हुए हैं. वहां मीडिया का एक बड़ा हुजूम मौजूद है लेकिन लोगों की बात करें तो शालू के अनुसार वहां सौ से भी कम लोग है.

लेकिन फ़िलहाल लोकपाल पर बहस फ़ौरन शुरू नहीं होगी. पहले सदन में कुछ और कार्रवाई होगी और उम्मीद जताई जा रही है कि 12 बजे के आस-पास लोकपाल पर बहस शुरू होगी.

11:00: इस बीच संसद की कार्यवाही शुरू हो गई है.

ग़ौरतलब है कि जब लोकपाल बिल को संसद में पेश किया गया था उस समय भी जनता दल(यू) और एआईएडीएमके जैसी पार्टियों ने कहा था कि लोकपाल बिल के कुछ प्रावधान संघीय ढांचे को चोट पहुंचाते हैं.

10:30: राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख ने कहा है कि लोकपाल बिल संघीय ढांचे पर एक हमला है.

इस बीच संसद में बहस के दौरान बेहतर तालमेल बिठाने के उद्देश्य से सदन के नेता प्रणब मुखर्जी इस समय कुछ वरिष्ठ सहयोगियों से विचार विमर्श कर रहें हैं. उस बैठक में लालू प्रसाद यादव और मुलायम सिंह यादव भी शामिल हैं.

अन्ना ने जुहू में महात्मा गांधी की मूर्ति के पास थोड़ी देर तक ध्यान किया उसके बाद एक खुली ट्रक में सवार होकर एमएमआरडीए मैदान के लिए रवाना हो गए.

10:00: जुहू पहुंचकर अन्ना ने महात्मा गांधी की मूर्ति पर फूल चढ़ाया. अब वो यहां से एमएमआरडीए मैदान जाएंगे.

अन्ना के विरोधियों का कहना है कि अन्ना को कॉर्पोरेट सेक्टर का समर्थन हासिल है इसीलिए उन्होंने अपने लोकपाल बिल में कॉर्पोरेट सेक्टर को शामिल नहीं किया है.

विरोधियों के अनुसार अन्ना संविधान और देश की संसदीय प्रणाली की मुख़ालफ़त कर रहें हैं.

अन्ना का विरोध करने वालों में एनसीपी पार्टी के कार्यकर्ता भी शामिल हैं.

उनलोगों का कहना है कि अन्ना संविधान की गरिमा को कम करने की कोशिश कर रहें हैं.

उनलोगों  ने अन्ना हज़ारे का रास्ता रोकने की भी कोशिश की.

शिव सेना और आरपीआई के समर्थकों ने अन्ना के आंदोलन का विरोध करते हुए उन्हें काले झंडे दिखाए हैं.

इस बीच ख़बरें आ रहीं हैं कि कुछ लोगों ने अन्ना को काले झंडे भी दिखाए हैं.

लक्ष्मण कहते हैं कि अन्ना को कामयाबी ज़रूर मिलेगी.

लक्ष्मण अय्यर अपने दस साथियों के साथ चेन्नई से मुंबई आए हैं.

लेकिन फिर भी देश के कई इलाक़ों से लोग अन्ना के अनशन में शामिल होने के लिए मुंबई पहुंच रहें हैं.

मुंबई स्थित बीबीसी संवाददाता ज़ुबैर अहमद का कहना है कि इस बार शहर में वो जोश नहीं देखा जा रहा है जैसा कि अगस्त में अन्ना के अनशन के दौरान देखने को मिला था.

09:30: अन्ना हज़ारे गेस्ट हाउस से निकल कर जुहू के लिए रवाना हो गए हैं जहां वो महात्मा गांधी की मूर्ति पर फूल चढ़ाएंगे.

इसके जवाब में अन्ना की सहयोगी किरण बेदी ने नानाजी देशमुख के साथ दिग्विजय सिंह समेत कई कांग्रेसी नेताओं की तस्वीर को सार्वजनिक किया.

कांग्रेस के एक केंद्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ने उन्हें संघ का एजेंट और सेना का भगोड़ा तक कह डाला.

ये विवाद एक दफ़ा फिर उठा जब कुछ दिन पहले एक हिंदी अख़बार के पहले पन्ने पर एक ख़बर छपी जिसमें अन्ना हज़ारे और संघ से जुड़े सामाजिक कार्यकर्ता नानाजी देशमुख एक साथ दिखे.

कांग्रेस पार्टी और यूपीए सरकार शुरू से कहती रही है कि अन्ना को संघ का समर्थन हासिल है जबकि अन्ना संघ से किसी तरह के रिशते होने की बात से इनकार करते रहें हैं.

लेकिन सबसे बड़ा विवाद अन्ना और राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के रिशते को लेकर रहा.

किरण बेदी पर हवाई यात्रा के लिए अपने प्रायोजकों से अधिक पैसे लेने के आरोप लगे तो अरविंद केजरीवाल पर सरकारी नौकरी के दौरान कुछ अनियमितता बरतने के आरोप लगे.

इस दौरान अन्ना और उनके कुछ प्रमुख सहयोगियों के साथ कई विवाद भी जुड़े.

इस बार सबकी निगाहें इस बात पर टिकी हैं कि क्या अन्ना को फिर वैसा जनसमर्थन मिल पाएगा जैसा उन्हें अप्रैल और अगस्त में अनशन के दौरान मिला था.

09:07: अन्ना बस थोड़ी ही देर में गेस्ट हाउस से निकलने वाले हैं.

08:58: इस विषय पर बीबीसी हिंदी की मुख्य ख़बर पढ़ने के लिए क्लिक करें.

08:45: मुंबई के एमएमआरडीए मैदान में धीरे-धीरे लोग जमा होने लगे हैं.

08:40: कई फ़िल्मी सितारों ने भी अन्ना का समर्थन किया है.

08:35: मुंबई में अन्ना के साथ किरण बेदी और संतोष हेगड़े होंगे जबकि दिल्ली में प्रशांत भूषण मोर्चा संभालेंगे.

08:30: अन्ना की सहयोगी किरण बेदी ने कहा है कि ये राष्ट्रहित और स्वार्थ के बीच लड़ाई है.

08:28: मैदान में हज़ारों पुलिसकर्मियों के अलावा दो बम निरोधक दस्ते भी तैनात किए गए हैं.

08:25: एमएमआरडीए मैदान में सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं.

08:20: अन्ना हज़ारे के एक सहयोगी सुरेश पठारे का कहना है कि अन्ना की तबियत बिल्कुल ठीक है. पहले मनीष सिसौदिया ने कहा था कि अन्ना की तबियत ठीक नहीं है.

08:15: ग़ौरतलब है कि संसद का मौजूदा शीतकालीन सत्र पिछले सप्ताह ही समाप्त होने वाला था लेकिन लोकपाल बिल के लिए इस सत्र को ख़ासतौर पर तीन दिनों के लिए बढ़ाया गया है.

08:12: अन्ना मुंबई में तीन दिनों तक अनशन करेंगे और संसद में भी मंगलवार से शुरू होकर अगले तीन दिनों तक लोकपाल बिल पर बहस होगी जिस दौरान सरकार लोकपाल बिल को पास करवाने की कोशिश करेगी.

08:10: सरकार ने आख़िरकार जो बिल संसद में पेश किया उससे अन्ना संतुष्ट नहीं हैं और इसी कारण सरकारी बिल के विरोध और जनलोकपाल बिल के समर्थन में उन्होंने मुंबई के एमएमआरडीए मैदान में अनशन करने का फ़ैसला किया है.

08:07: दिल्ली के रामलीला मैदान में ही अन्ना ने अगस्त में अनशन किया था जिसके बाद संसद में  मज़बूत लोकपाल बिल लाने के लिए ध्वनि मत से एक प्रस्ताव पास किया गया था.

08:05: अन्ना के समर्थक दिल्ली के रामलीला मैदान में भी जमा होंगे.

08:02: अन्ना पहले जुहू में महात्मा गांधी की मूर्ति पर फूल चढ़ाएंगे उसके बाद वो एमएमआरडीए मैदान जाएंगे जहां  वो  अनशन पर बैठेंगें.

08:00: अन्ना का कहना है कि सरकार ने जो बिल पेश किया है वो काफ़ी कमज़ोर है इससे भ्रष्टाचार को नहीं रोका जा सकता है.

07:55: उधर मुंबई में अन्ना अनशन करेंगे, इधर दिल्ली में संसद में लोकपाल पर बहस होगी.

07:50: अन्ना के सहयोगी मनीष सिसौदिया के अनुसार अन्ना की तबियत ठीक नहीं है फिर भी वो अनशन के लिए अड़े हुए हैं.

07:45: अन्ना हज़ारे मुंबई में एक स्टेट गेस्ट हाउस में ठहरे हुए हैं. थोड़ी देर में वो बाहर निकलेंगे.

मुंबई में अन्ना हज़ारे का अनशन और संसद में लोकपाल पर बहस की पल-पल की ख़बर

07:40: बीबीसी हिंदी सेवा की विशेष कमेंटरी में आपका स्वागत है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.