समुद्री तूफ़ान 'ठाणे' में 30 की मौत

 शनिवार, 31 दिसंबर, 2011 को 13:27 IST तक के समाचार

तमिलनाडु और पुडुचेरी में पिछले दो दिनों में जारी समुद्री तूफ़ान ठाणे ने भारी तबाही मचाई है जिसमें कम से कम 30 लोग मारे गए हैं.

तूफ़ान से समुद्र के किनारे बने कच्चे मकान ताश के पत्तों की तरह बिखर गए. सड़कों को भी तूफ़ान और बारिश से भारी क्षति पहुँची है.

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता ने तूफ़ान के कारण प्रभावित हुए इलाक़ों में राहत कार्यों के लिए 150 करोड़ रुपए तत्काल जारी करने की घोषणा की है.

उन्होंने चार मंत्रियों को प्रभावित ज़िलों का दौरे भी भेजा है.

चेन्नई में वरिष्ठ विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक के बाद जयललिता ने कहा कि उन्होंने अपने मंत्रियों बी वी रामन्ना, टीकेएम चिन्नैया, के ए जयापॉल और एम सी संपत को कांचीपुरम, विल्लुपुरम, नागापट्टनम और कुड्डालोर ज़िलों का दौरा करने को कहा है.

ठाणे से 'तबाही'

ये ज़िले समुद्री तूफ़ान से सबसे बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. बंगाल की खाड़ी से चला समुद्री तूफ़ान ठाणे शुक्रवार को तमिलनाडु से होकर गुज़रा.

मुख्यमंत्री जयललिता ने कहा है कि 150 करोड़ रुपए राशि को तत्काल राहत कार्यों और बुनियादी सुविधाओं को बहाल करने पर ख़र्च किया जाएगा.

इसके अलावा उन्होंने कलेक्टरों, डिप्टी कलेक्टरों और विभागीय सचिवों को निर्देश दिया है कि वे तबाही का आंकलन करें और रिपोर्ट पेश करें.

जयललिता ने कहा कि समुद्री तूफ़ान की वजह से बड़ी संख्या में पेड़ टूट गए हैं और इस कारण यातायात प्रभावित हुआ है. इसके अलावा सैकड़ों बिजली के खंभे भी गिर गए हैं.

निर्देश

अधिकारियों को सड़कों को साफ़ कराने का निर्देश दिया गया है.

राज्य सरकार ने ऐहतियात के तौर पर निचले इलाक़ों में रहने वाले क़रीब छह हज़ार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचा दिया है.

गुरुवार रात को ही कुड्डालोर, विल्लुपुरम और नागापट्टन ज़िलों में बिजली की आपूर्ति बंद कर दी गई थी.

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन की चार टीमें भी प्रभावित ज़िलों में भेजी गई हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.