प्रियंका ने संभाली अमेठी-रायबरेली की कमान

प्रियंका गाँधी इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption प्रियंका ने कहा कि वो अमेठी और रायबरेली के 10 विधानसभा सीटों में चुनावी काम देखेंगी

प्रिंयका गाँधी वडेरा ने कहा है कि अगर राहुल गाँधी चाहेंगे तो वो उत्तर प्रदेश में चुनावी प्रचार करेंगी, उधर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उत्तराखंड में चुनावी प्रचार की शुरुआत करते हुए लोगों से विकास के नाम पर कांग्रेस को वोट देने की अपील की है.

दूसरी ओर राहुल गाँधी बुंदेलखंड में चुनावी रोड शो कर रहे हैं.

रुढ़की में अपने भाषण में सोनिया गाँधी ने राज्य सरकार पर भ्रष्टाचार और प्राकृतिक संपदा की लूट का आरोप लगाया.

सोनिया ने राज्य में मुखयमंत्री बदले जाने पर व्यंग्य करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री बदलने से कुछ नहीं होगा. हाल ही में राज्य की कमान रमेश पोखरियाल से लेकर बीसी खंडूरी को दे दी गई थी.

उधर अमेठी और रायबरेली का दौरा कर रही प्रिंयका गाँधी वडेरा ने कहा कि वो राहुल गाँधी की मदद के लिए कुछ भी करेंगी.

जब प्रिंयका से पूछा गया कि क्या वो रायबरेली और अमेठी के बाहर उत्तर प्रदेश के दूसरे क्षेत्रों में भी चुनाव प्रचार करेंगी, उन्होंने कहा, “मैं अपने भाई की मदद के लिए कुछ भी करूँगी. वो जो भी कहेंगे, मैं वो करूँगी. लेकिन अभी सिर्फ़ अमेठी और रायबरेली है. मैने अभी तक अमेठी और रायबरेली के बाहर चुनावी प्रचार करने के बारे में फ़ैसला नहीं किया है.”

जब उनसे पूछा गया कि क्या वो चुनाव लड़ेंगी तो वो मात्र मुस्कुरा दीं और कहा कि उनके भाई को पता है कि वो उनसे कितने की उम्मीद रखते हैं.

अमेठी और रायबरेली के 10 विधानसभा सीटों में से कांग्रेस के पास सात सीटें हैं. इन सीटों पर चौथे और पाँचवी दौर में मतदान होंगे.

प्रिंयका अमेठी और रायबरेली के दौरे पर हैं जहाँ वो कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मिल रही हैं. उनके इस बयान पर राज्य के कांग्रेस नेता ज़रूर खुश होंगे.

राहुल गाँधी अमेठी से सांसद हैं जबकि सोनिया गाँधी रायबरेली का प्रतिनिधित्व करती हैं.

राहुल गाँधी पहले ही उत्तर प्रदेश में चुनावी बिगुल बजा चुके हैं. वो अभी बुंदेलखंड की यात्रा पर हैं. माना जा रहा है कि चुनावी दौरे में प्रिंयका के शामिल हो जाने से कांग्रेस की उम्मीदें मज़बूत होंगी.

उत्तर प्रदेश में चौथरफ़ा मुक़ाबला है. उम्मीद है कि बसपा, सपा और भाजपा से कांग्रेस को कड़ी टक्कर मिलेगी.

वर्ष 2009 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने 22 सीटें जीती थीं. इस जीत का सेहरा राहुल गाँधी के सिर पर बाँधा गया था. विधानसभा चुनाव में पार्टी को अच्छे नतीजों की उम्मीद है.

'उत्तराखंड सरकार भ्रष्ट'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption गाँधी परिवार उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश की चुनावी यात्रा पर है

उधर उत्तराखंड में स्थानीय पत्रकार शालिनी जोशी का कहना है कि उत्तराखण्ड में पिछले तीन दिनों से बारिश औऱ बर्फबारी के कारण सोनिया एक दिन पहले ही देहरादून आ गई थीं. इससे पहले खराब मौसम की वजह से उत्तराखण्ड में होनेवाली दो जनसभाओं में सोनिया पहुँच ही नहीं पाई थीं.

सोनिया ने कहा, “आपको उत्तराखंड सरकार को बदलना होगा. भाजपा को उखाड़ फेंकिए. मुझे उम्मीद है कि आप कांग्रेस को बहुमत देंगे.”

अपने भाषण में सोनिया ने हरिद्वार में आयोजित महाकुंभ का हवाला देते हुए कहा कि केंद्र ने इसके लिये 700 करोड़ रुपए भेजे थे लेकिन भाजपा सरकार ने इससे अपना घर भरा और स्थानीय लोगों के साथ छल किया.

उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार कथित तौर पर इतनी नाकाम है कि विकास योजनाओं के लिये केंद्र से भेजे पैसे का सिर्फ 40 प्रतिशत ही उपयोग कर पाई है.

उन्होंने वादा किया कि अगर राज्य में कॉंग्रेस की सरकार बनती है तो पीरान कलियर में लगनेवाले उर्स को राज्य मेले का दर्जा दिया जाएगा, गन्ना किसानों को तत्काल नगद भुगतान की व्यवस्था की जाएगी और अल्पसंख्यकों और महिलाओं के लिये विशेष कल्याणकारी योजनाएं बनाई जाएगीं.

पूर्व सैनिकों के वोट बैंक को ध्यान में रखते हुए सोनिया ने रूड़की के लिथो प्रेस मैदान में अपने भाषण में उत्तराखंड के लोगों की बहादुरी का भी बखान किया.

संबंधित समाचार