दिल्ली हाई कोर्ट ने कलमाडी को ज़मानत दी

इमेज कॉपीरइट n
Image caption राष्ट्रमंडल घोटाले के मामले में सुरेश कलमाड़ी जेल में नौ महीने काट चुके हैं

राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान हुए कथित घोटालों के आरोप में जेल में क़ैद राष्ट्रमंडल खेल आयोजन समिति के पूर्व चेयरमैन सुरेश कलमाडी को ज़मानत दे दी गई है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने उन्हें ये ज़मानत पांच लाख रुपए के मुचलके पर दी है.

कलमाडी के अलावा इस मामले में आयोजन समिति के महानिदेशक वी के वर्मा को भी हाई कोर्ट ने ज़मानत दे दी है.

पिछले साल अप्रैल में कलमाडी को ग़रफ़्तार किया गया था. उन पर आरोप था कि उन्होंने स्विट्ज़रलैंड की एक निजी कंपनी को टाइम, स्कोर और नतीजे दिखाने वाले उपकरण के लिए पक्षपातपूर्ण ढंग से बढ़ी हुई क़ीमत पर 141 करोड़ रुपए में कॉन्ट्रैक्ट दिया था.

कहा जा रहा है कि इस कॉन्ट्रैक्ट से सरकार को 90 करोड़ से ज़्यादा का घाटा हुआ था.

इससे पहले सीबीआई ने कोर्ट में उनकी ज़मानत का विरोध किया था.

कलमाडी की ज़मानत पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा है कि हर किसी को ज़मानत मांगने का अधिकार होता है.

पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा, “मैं शुरू से इस बात को कहता रहा हूं कि ज़मानत मांगना हर आरोपी का अधिकार है. अगर आरोप पत्र दाखिल हो चुकी है और जांच पूरी हो चुकी है, तो ऐसे में ज़मानत मिलनी ही चाहिए.”

अदालत में कलमाडी के वकील ने दलील दी कि ऐसे में जबकि मामले में जांच पूरी हो चुकी है और आरोप पत्र दाखिल हो चुका है, तो आरोपी को ज़मानत मिलनी ही चाहिए.

राष्ट्रमंडल घोटाले के मामले में सुरेश कलमाडी जेल में नौ महीने काट चुके हैं. उनके वकील का कहना है कि बृहस्पतिवार शाम या शुक्रवार की सुबह तक वे जेल से बाहर हो जाएंगें.

संबंधित समाचार